जनता ने कश्मीर पर दुनिया का भ्रम दूर किया : मोदी


मोदी ने घाटी की जनता को दिया धन्यवाद, मुफ्ती के बयान पर समर्थन नहीं
नईदिल्ली। राज्यसभा में मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति के भाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पेश करते हुए भले ही जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहममद सईद के पाकिस्तान संबंधी बयान का खंडन नहीं किया हो, लेकिन उन्होंने जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाए जाने के लिए वहां की जनता का धन्यवाद किया। मोदी ने कहा कि वह किसी के बयान का समर्थन नहीं करते हैं।
मोदी ने राज्यसभा में विपक्ष के हंगामे के बीच बोलते हुए कहा कि २०११ में कालेधन पर एसआईटी नहीं बनने से नुकसान होगा। वेंâद्र सरकार विदेशों में कालेधन के रूप में पाई-पाई को वापस लाने के लिए प्रतिबद्ध है। मोदी ने विकास के लिए जमीन अधिग्रहण को उचित बताते हुए कहा कि भूमि अधिग्रहण पर जितना मुआवजा तय हुआ, उतना ही मिलेगा। मुआवजे को लेकर कोई विवाद नहीं। किसान को जमीन को लेकर कोई समझौता नहीं, भूमि बिल में कमी होगी, तो उसमें सुधार करेंगे।
– कांग्रेस ने अटल सरकार की योजनाओं के नाम बदलें
मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के समय की योजनाओं के नाम बदलकर कांग्रेस सरकार ने अपनी योजनाओं के तौर पर आगे बढ़ाया। जो योजनाएं पहले से चल रही थी। उन्हीं की पैकेिंजग करके उन्हें अपना बताया गया। उन्होंने कहा कि सदन जनमत का आदर करेगी और वेंâद्र सरकार जिम्मेदारी निभाने में पीछे नहीं हटेगी। लोकतंत्र में धमकियां ना चलती हैं, ना चलेगी। आपातकाल से बड़ी धमकी इस देश के लिए क्या होगी। जो बातें कहीं ना गई हो, उन्हें किसी के मुंह में ना डाले। भारत के संतुलित विकास पर जोर देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि वेंâद्र हर दरिद्र की सेवा के लिए प्रतिबद्ध है। गरीबों को घर देने की कोशिश है। भुजाओं में हुनर हो, ये जरुरी है। ताकि विकास की आंच सब तक पहुंचे। उन्होंने कहा कि सदन में एक पार्टी से ज्यादा हम एक राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। देश के विकास के लिए सबको मिलकर काम करना होगा।
– कॉरपोरेट के लिए नहीं स्वच्छता अभियान
मोदी ने कहा कि ये स्वच्छता अभियान किसके लिए हैं। कॉरपोरेट के लिए, व्यापारियों के लिए, अमीरों के लिए हैं। स्वूâल में टॉयलेट बनाना कॉरपोरेट का काम है क्या? क्या जन धन योजना कॉरपोरेट के लिए है क्या? इससे पहले, विपक्ष द्वारा उठाए गए कई सवालों का जवाब दिया। उन्होंने बजट को र्आिथक विकास में सहायक बताते हुए विपक्ष द्वारा उठाए गए मुद्दों की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि विपक्ष बार-बार सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की खिल्ली उड़ाता रहा है, जो सही नहीं है। उन्होंने विपक्ष पर वार करते हुए कहा कि सत्ता एक नशा है। लेकिन हम दुआ करेंगे की भाजपा इससे बची रहे। उनका कहना था कि यदि हम इस नशे में पड़कर झुकना भूल जाएंगे तो खत्म हो जाएंगे।
– र्आिथक नहीं सामाजिक मजबूती जरूरी
उन्होंने कहा कि नई सरकार देश को र्आिथक तौर पर ही नहीं बाqल्क सामाजिक तौर पर भी मजबूत बनाने की ओर कार्यरत है। सदन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश के करीब ५.५ करोड़ लोग १२ से १५ करोड़ लोगों को रोजगार उपलब्ध कराते हैं। इसके अलावा मृदा की जांच के लिए बनाया गया सॉयल हेल्थ कार्ड गरीब किसानों के लिए बेहद कारगर योजना है। इससे किसान जान सकेगा कि वह अपनी जमीन पर किस चीज की खेती करे और किससे उसको फायदा होगा।