जतिन बोले-मांझी की नाव कभी नहीं डूबती, मोदी से मिलेंगे आज


नईदिल्ली। बिहार में मुख्यमंत्री जतिन राम मांझी की कुर्सी को लेकर जबरदस्त सियासत हो रही है। बिहार निवास से पीएम निवास जाने से पहले मांझी ने एलान कर दिया है कि मांझी की नाव नहीं डूबती। जेडीयू विधायक दल के नेता के तौर पर फिलहाल जीतनराम मांझी मुख्यमंत्री बने हुए हैं लेकिन उनकी कुर्सी कब तक बची रहेगी यह कहना मुश्किल है। दिल्ली में हो रही नीति आयोग की बैठक में भाग लेने के लिए यहां आए मांझी रविवार को शाम ५बजे प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे। उन्होंने इसके लिए मोदी से अलग से समय मांगा था।
शनिवार को जेडीयू ने पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नया नेता चुन लिया। नीतीश कुमार राज्य के नए सीएम बनने के लिए रविवार को राज्यपाल से मिलने पहुंच गए हैं। नीतीश कुमार का दावा है कि उनको आरजेडी, कांग्रेस और सीपीआई का समर्थन हासिल है और जरूरत पड़ी तो वो राज्यपाल के सामने १३० विधायकों की परेड भी करा सकते हैं। इस समय मांझी दिल्ली में हैं वे यहां प्रधानमंत्री मोदी के साथ हो रही नीति आयोग की बैठक में बतौर मुख्यमंत्री शामिल हुए। सूत्रों का कहना है कि जेडीयू से बर्खास्त होने के बाद जीतनराम मांझी अपनी कुर्सी बचाने के लिए पीएम से बीजेपी का समर्थन मांगेंगे। मांझी प्रधानमंत्री से बिहार में अपनी कुर्सी बचाने के लिए बीजेपी के ८७ विधायकों का समर्थन मांग सकते हैं। इससे पहले पटना में मांझी ने अपने मंत्रिमंडल की एक बैठक बुलाई थी जिसमें उन्होंने विधानसभा भंग करने की सिफारिश करने का प्रस्ताव रखा लेकिन उनका समर्थन सिर्पâ आठ विधायकों ने किया जबकि नीतीश कुमार के प्रति निष्ठा रखने वाले २० मंत्रियों ने प्रस्ताव का विरोध किया। वहीं बिहार में उठे सियासी तूफान को लेकर बीजेपी में भी मुलाकातों का दौर जारी है। अमित शाह ने बिहार के हालात पर पीएम मोदी से चर्चा की है और बिहार ने कई नेता गृह मंत्री राजनाथ िंसह से मिले हैं।
बिहार विधानसभा में इस वक्त कुल २३३ विधायक हैं, इस लिहाज से बहुमत के लिए कुल ११७ विधायकों के समर्थन की जरूरत है। ऐसे में मांझी को अपनी कुर्सी बचाने के लिए अब सिर्पâ बीजेपी का आसरा है जिसके पास ८७ विधायक हैं. लेकिन बीजेपी के समर्थन के बावजूद भी उन्हें जेडीयू के कुछ और विधायकों के साथ की जरूर होगी, जो फिलहाल उनके साथ नहीं दिखाई दे रहे हैं। अब राज्यपाल का पैâसला ही नीतीश और मांझी का भविष्य तय करेगा।