जगदीश मुखी, अब जगदीश दुखी दिखाई दे रहे हैं : विश्वास


कुमार विश्वास ने बीजेपी नेताओं का उड़ाया मजाक
नई दिल्ली । दिल्ली विधानसभा चुनाव के मतदान की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है वैसे-वैसे राजनीति दलों के नेताओं का विपक्षी दलों पर जुबानी हमला तेज हो गया है। इस कड़ी में एक बार फिर आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने भाषा की मर्यादा को तोड़ते हुए दिल्ली बीजेपी के नेताओं का जमकर मखौल उड़ाया। कुमार विश्वास ने बीजेपी के नेता जगदीश मुखी को जगदीश दुखी करार दिया। एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए ‘आप’ के कुमार विश्वास ने दिल्ली बीजेपी नेताओं पर निशाना साधते हुए उनके बारे में अपशब्द बोले। कुमार विश्वास ने कहा कि जब बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने किरन बेदी को कार्यालय में बुलाकर कहा कि ये दिल्ली में सीएम की उम्मीदवार है तो हर्षवर्धन के चेहरे से हर्ष ही गायब हो गया और जगदीश मुखी, जगदीश दुखी दिखाई देने लगे।
इसके अलावा जनसभा में कुमार विश्वास ने प्रधानमंत्री मोदी की भी जमकर मिमिक्री की। गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले कुमार विश्वास ने किरण बेदी के खिलाफ भी अपशब्द कहे थे।

‘आप’ पार्टी सबसे विचित्र है, वह जो कहती है, कभी नहीं करतीः अमित शाह
नई दिल्ली । भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल पर लोगों से किए वादे नहीं पूरा करने का आरोप लगाया। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मतदाताओं से अपना वोट उस पार्टी के लिए नहीं गंवाने का आह्वान किया जिसकी कोई नीति नहीं है। शाह ने पटेल नगर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी कृष्णातीरथ के एक चुनावी रैली में कहा कि यह आम आदमी पार्टी दुनिया में सबसे विचित्र पार्टी है, वह जो कहती है, कभी नहीं करती। केजरीवाल ने एक भी वादा पूरा नहीं किया। लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने वाराणसी के लोगों से कहा था कि वह नहीं जीते तो भी वह वहां के लोगों की सेवा करेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि आम चुनाव के आठ महीने गुजर गए लेकिन वह काशी में एक भी नजर नहीं आए और वाराणसी के लोग अब उन्हें ढूढ़ रहे हैं। भाजपा नेता ने कहा कि केजरीवाल अपनी ४९ दिनों की सरकार में २०१३ के चुनाव के बाद सरकार गठन के लिए कांग्रेस के साथ समझौता कर बेनकाब हो गए। उन्होंने प्रधानमंत्री बनने के लिए इस्तीफा दिया। शाह ने दावा किया कि उन्होंने पांच साल सरकार चलाने का वादा किया था क्या उन्होंने वादा पूरा किया। उन्होंने सीडब्लूयूजी घोटाले के सिलसिले में शीला दीक्षित पर कार्रवाई का वादा किया था, क्या उन्होंने कोई कार्रवाई की। उन्होंने लोक दरबार का वादा किया लेकिन उन्हें अपने पहले ही दिन दरबार में छत पर चढ़ना पड़ा। उन्होंने आरोप लगाया कि इस पार्टी की कोई नीति नहीं है, विदेश नीति या आर्थिक नीति पर कोई पकड़ नहीं है, कैसे महंगाई नियंत्रित की जाए, उसपर कोई पकड़ नहीं है। बस वह अशांति फैलाती है। भाजपा नेता ने कहा कि अपना वोट आप ऐसे दल पर मत बर्बाद कीजिए जिसके ३५० से अधिक उम्मीदवार लोकसभा चुनाव में अपनी जमानत गंवा बैठे थे।