चॉपर डील : पर्रिकर बताएंगे कैसे हुई गड़बड़


पणजी। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि विवादास्पद अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे में 04 मई को वह संसद के समक्ष विस्तृत ब्यौरे के साथ सभी तथ्यों को पेश करेंगे। उन्होंने कहा, ‘मैं संसद के समक्ष बुधवार को हेलीकॉप्टर सौदे के बारे में विस्तृत ब्यौरा और तथ्यों को रखूंगा। मैं विस्तृत घटनाक्रम रखूंगा जिसमें बताउंगा कि किस तरह और कैसे कंपनी के मुताबिक नियमों और प्रावधानों में ढील दी गई।’

उन्होंने कहा, ‘जिन लोगों को रिश्वत मिली वे अपने ऊपर अभियोजन चलाने के लिए सबूत नहीं छोड़ेंगे लेकिन हमें इसे साबित करना है (कि रिश्वत ली गई)। हमें हर चीज साबित करनी है। चूंकि मामले को संसद के समक्ष रखा जाएगा इसलिए मैं मीडिया को विस्तार से जानकारी नहीं दूंगा।’

पर्रिकर ने पूछा, ‘कंपनी के खिलाफ 2014 तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई? तत्कालीन यूपीए सरकार ने कंपनी को काली सूची में क्यों नहीं डाला? मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं कि यूपीए सरकार के आदेश को दिखाएं कि अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी को काली सूची में डाला गया। पहले उन्हें जवाब देने दीजिए कि उसे क्यों नहीं प्रतिबंधित किया गया। हमारी सरकार के समय में इसे प्रतिबंधित किया गया।’