चुनावों के दौरान आक्रामक प्रचार से बच रहे मोदी


नई दिल्ली । नई दिल्ली में केजरीवाल और बिहार में नीतिश के खिलाफ विधानसभा चुनावों में जमीन आसमान एक कर चुके प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी तमिलनाडु और पाqश्चम बंगाल में पूंâक-पूंâक कर कदम रख रहे हैं। तमिलनाडु और पाqश्चम बंगाल जैसे बड़े और महत्वपूर्ण राज्य में मोदी ने अभी तक सिर्पâ दो दिन चुनाव प्रचार को दिए हैं। मोदी इस बार चुनाव प्रचार की औपचारिकता निभाएंगे। भाजपा सूत्रों के अनुसार तमिलनाडु में जयललिता और पाqश्चम बंगाल में ममता की वापसी को भाजपा तय मान रही है। ऐसी ाqस्थति में भाजपा नहीं चाहती कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ओवर एक्सपोज कर चुनाव परिणामों के बाद उनके लिए असहज ाqस्थति पैदा की जाए, जैसी दिल्ली और बिहार चुनाव के बाद हुई थी। भाजपा के एक बड़े नेता की मानें तो प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव प्रचार में लगे नेताओं से ममता और जयललिता के खिलाफ संयमित भाषा का इस्तेमाल करने के लिए कहा है।
तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संबंध अच्छे व सौहार्दपूर्ण रहे हैं। ममता और जयललिता दोनों पूर्व में एनडीए का हिस्सा रही हैं। भाजपा की कोशिश दोनों को अगले आम चुनाव के पहले एनडीए का हिस्सा बनाने की है। भाजपा के एक नेता का कहना है कि अगले लोकसभा चुनाव में स्पष्ट बहुमत नहीं आने की आशंका से निपटने के लिए मोदी और शाह अभी से एनडीए का दायरा बढ़ाने और पुराने साथियों को वापस एनडीए में लाकर अपनी ाqस्थति मजबूत करने में लगे हैं।