चांडी और अच्युतानंदन के बीच सोशल मीडिया पर जंग


-जो उपदेश आप देते हैं उसे जीवन में क्यों नहीं उतारते हैं? : चाण्डी
कोझिकोड। केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने माकपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री वी.एस. अच्युतानंदन को नसीहत दी है कि जो वे जिस सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल की वे प्रेरणा देते है, उसे जीवन में भी उतारें। के बीच सोशल मीडिया पर सोमवार को दोनो नेताओं के बीच जंग तेज हो गई। चांडी ने अच्युतानंदन से यह स्पष्ट करने को कहा कि जब उनकी अपनी वेबसाइट बनाने और पेâसबुक अकाउंट खोलने की बात आई तो उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट को इसके लिए क्यों चुना, जबकि वह इन वर्षो के दौरान मुफ्त सॉफ्टवेयर (खुला स्त्रोत) के लिए संघर्ष करते रहे हैं। यहां जारी एक बयान में चांडी ने कहा कि अच्युतानंदन हमेशा मुफ्त सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल की बात करते रहे हैं और मालिकाना सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने के लिए उन्होंने चांडी को कई बार आलोचना भरा पत्र लिखा था। चांडी ने कहा,कि मेरे पास दो वेबसाइट हैं, जिनमें मुफ्त सॉफ्टवेयर इस्तेमाल हो रहे हैं, जबकि अच्युतानंदन एएसपी डॉट नेट के इस्तेमाल से विकसित हुई है, जो माइक्रोसॉफ्ट का उत्पाद है। जिसे आप अक्सर बहुराष्ट्रीय कहते हैं। आपकी वेबसाइट पर आपके लेख पोस्ट करने के लिए जिस सरवर का इस्तेमाल होता है, वह माइक्रोसॉफ्ट िंवडो का है और इसका प्रक्षेत्र एक अन्य बहुराष्ट्रीय साइट- ‘गो डैडी’ के साथ पंजीकृत है, जबकि मैं प्रत्येक चीज भारत का इस्तेमाल करता हूं। मुख्यमंत्री ने कहा, कि मैंने वास्तव में इच्छा जाहिर की थी कि आप माइक्रोसॉफ्ट का परित्याग करें, लेकिन आपने ऐसा नहीं किया है। मैं चाहता हूं कि आप लोगों को बताएं कि जो उपदेश आप देते हैं उसे जीवन में क्यों नहीं उतारते हैं? चांडी ने कोझिकोड में संवाददाताओं से कहा कि अगर राज्य मंत्रिमंडल के मंत्रियों पर मुकदमा वाला बयान अच्युतानंदन ने दो दिनों के भीतर वापस नहीं लिया तो वह चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाएंगे। उधर पलक्कड़ में नामांकन दाखिल करने के तुरंत बाद अच्युतानंदन(९२) ने कहा कि चांडी परेशान हैं, इसलिए वह इस तरह के शोर मचा रहे हैं।