गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित कराने की मांग को लेकर राजकोट बंद


सौराष्ट्र में मिला-जुला असर, जगह-जगह रास्ता रोको आंदोलन : 95 गिरफ्तार
मोरबी में बजरंग दल ने चक्काजाम किया : केशोद में बाजार-दुकान बंद
राजकोट। गाय को राष्ट्रमाता घोषित कराने की मांग को लेकर गौभक्त आंदोलन पर उतरे हुए हैं। कल 8 गौभक्तों ने जहर पीकर कर आत्महत्या करने की कोशिश की थी जिसमें से गभरू नामक एक गौभक्त की मौत हो गयी। गौ भक्त की मौत के विरोध में शुक्रवार को राजकोट बंद का ऐलान किया गया है।
शुक्रवार को राजकोट-सौराष्ट्र में जगह-जगह चक्काजाम किया गया। बंद के ऐलान को ध्यान में रखते हुए पुलिस व्यवस्था कड़ी कर दी गयी है। चक्काजाम करने वालों को पुलिस गिरफ्तार कर रही है। अब तक 95 गौ भक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
ज्ञातव्य है कि विविध हिन्दूवादी संगठन गाय को राष्ट्रामाता घोषित कराने की मांग के साथ आंदोलन पर उतरे हुए हैं। दिल्ली के रामलीला मैदान में विशाल रैली और सभा करने के बाद भी सरकार द्वारा कोई निर्णय नहीं लिया गया।
गुजरात में गौ रक्षा एकता समिति द्वारा आंदोलन शुरु किया गया है। जिसके तहत परसों गौ भक्तों ने कलेक्टर को आवेदन देकर 24 घंटे का समय देते हुए आत्मविलोपन की चेतावनी दी थी। 24 घंटे का समय बीतने पर 8 गौ भक्तों ने जहर पीकर आत्महत्या करने की कोशिश की। जिसमें गभरू नामक एक गौ भक्त की मौत हो गयी। जबकि अन्य तीन की हालत गंभीर बनी हुई है। जहर पीने वाले गौ भक्तों को 108 एंबुलेंस से तुरंत होस्पिटल ले जाया गया।
शुक्रवार को गौ भक्त गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने के बाद ही मृतक की लाश को उठाने का फैसला लिया है। होस्पिटल के चारों ओर पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। दूसरी ओर गो भक्त मुख्यमंत्री के आने के बाद ही मृतक की लाश को स्वीकार करने का आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं।
सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को सुबह पुलिस आयुक्त गहलोत, एसीपी के बी झाला सहित उच्च अधिकारी होस्पिटल पहुंच गए। आनंद आश्रम में महंत कालीदास महाराज, विहिप के चमनभाई सिंघव तथा गौ रक्षा एकता समिति के अग्रणियों और कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस की गहन चर्चा के बाद गौ भक्त मृतक का पोस्ट मार्टम कराने पर सहमत हुए। जानकारी के अनुसार मृतक गभरूभाई ने हजारों गायों को कत्लखाने जाने से बचाया था। गभरूभाई पिछले 15 सालों से गौ सेवक के रूप में काम कर रहे थे। गौ भक्तों ने कहा कि जब तक गाय को राष्ट्रमाता घोषित नहीं किया जाता तब तक आंदोलन चलता रहेगा।