खबरदार! ब्रेड खाने से हो सकता है कैंसर,


नयी दिल्ली ।  सेंटर फॉर साइंस एंड इंवायरनमेंट (सीएसई) के एक अध्ययन से पता चला है कि शहरों के नियमित खान-पान में शामिल हो चुके ब्रेड के नियमित सेवन से कैंसर हो सकता है।
यह अध्ययन सीएसई की प्रदूषण निगरानी प्रयोगशाला द्वारा किया गया है। यहाँ आज जारी रिपोर्ट के अनुसार, ब्रेड बनाने के दौरान आटे में पोटैशियम ब्रोमेट तथा पोटैशियम आयोडेट का इस्तेमाल किया जाता है। कई देशों में ये रसायन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक सूची में शामिल हैं और ब्रेड बनाने में इनका इस्तेमाल प्रतिबंधित कर दिया गया है। भारत में इन पर प्रतिबंध नहीं है। इनमें एक से कैंसर होने का खतरा होता है जबकि दूसरे से थॉयरॉयड से संबंधित बीमारी हो सकता है।
सीएसई ने बताया कि उसने दिल्ली में ब्रांडेड ब्रेड के 38 पैकेज्ड वेरिएंटों का परीक्षण किया। इनमें पाव और बन, लोकप्रिय फास्टफूड आउटलेटों के खाने के लिए तैयार बर्गर ब्रेड तथा पिज्जा ब्रेड भी शामिल हैं। सीएसई के उपमहानिदेशक चंद्र भूषण ने कहा, “84 प्रतिशत नमूनों में पोटैशियम ब्रोमेट या पोटैशियम आयोडेट पाया गया। कुछ नमूनों की जाँच बाहरी प्रयोगशालाओं में भी कराई गई जहाँ उनमें इन रसायनों की मौजूदगी पुष्टि हुई है।”