कोयला-स्पेक्ट्रम नीलामी से सरकार को 3 लाख करोड़ से ज्यादा का लाभ


नई दिल्ली । कोयला खानों और दूरसंचार स्पेक्ट्रम की नीलामी से होने वाली आमदनी सोमवार को तीन लाख करोड़ रुपये के पार चली गई जो इस तरह के संसाधनों के लिए वैâग के अनुमान से कहीं अधिक है। हाल के वर्षों में कोयला ब्लॉक आवंटन और स्पेक्ट्रम नीलामी के दो बड़े घोटाले उजागर करने को लेकर वैâग सुखिर्यों में रहा था।
सरकार उन्हीं कोयला ब्लॉकों की नीलामी कर रही है जिनका आवंटन सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिया था। हालही में चल रही कोयला ब्लॉकों की नीलामी से राजस्व प्रााqप्त २ लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गई है जो वैâग के १.८६ लाख करोड़ रुपये के घाटे के अनुमान से अधिक है। वैâग ने यूपीए के कार्यकाल के दौरान नीलामी के बगैर कोयला ब्लाकों के आवंटन के चलते सरकार को यह नुकसान होने का अनुमान जताया था। कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि निरस्त किए गए २०४ कोयला ब्लॉकों में से ३२ की पारदर्शी तरीके से ई-नीलामी से संभावित राजस्व प्रााqप्त २.०७ लाख करोड़ रुपये पहुंच गई है, जिसमें नीलामी से राजस्व, रॉयल्टी और पेशगी भुगतान शामिल है। यह वैâग के १. ८६ लाख करोड़ रुपये के घाटे के अनुमान से कहीं ज्यादा है। ‘ कोयला ब्लॉकों की दूसरी खेप की नीलामी के पांचवे दिन दो खदानों- ओड़िशा में उत्कल सी और झारखंड में लोहरी- से अनुमानित ११,००० करोड़ रपये से अधिक का राजस्व मिलने की उम्मीद है। इस दो लाख करोड़ रपये से अधिक की संभावित प्रााqप्त में पहली खेप में १९ खानों की बिक्री से एक लाख करोड़ रपये से अधिक की प्रााqप्त शामिल है।
सरकार को स्पेक्ट्रम नीलामी के आज पांचवें दिन की समााqप्त तक दूरसंचार वंâपनियों की ओर से ९४,००० करोड़ रुपये की बोलियां प्राप्त हो चुकी हैं। दूरसंचार विभाग ने कहा, `ये बोलियां सभी बैंड्स के स्पेक्ट्रम के हैं। वर्तमान में, अस्थायी तौर पर जीते गए स्पेक्ट्रम के संदर्भ में बोली लगाने वालों की ओर से करीब ९४,००० करोड़ रुपये की बोलियां लगाई गई हैं। बिक्री के लिए अब भी स्पेक्ट्रम बचा है। बोली मंगलवार को दोबारा शुरू होगी। ‘ विभाग ने बताया कि सोमवार को सात दौर की बोलियां लगाई गर्इं और अब तक ३१ दौर की बोलियां लगाई जा चुकी हैं। सरकार ने २जी और ३जी स्पेक्ट्रम की नीलामी से कम से कम ८२,००० करोड़ रुपये राजस्व हासिल करने का लक्ष्य शनिवार को ही पार कर लिया। शनिवार को बोलियों के चौबीस दौर के अंत में ८६,००० करोड़ रुपये मूल्य की बोलियां प्राप्त हुई थीं। अगर इसी तेजी के साथ बोली लगना जारी रहता है तो सरकार को स्पेक्ट्रम की बिक्री से एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की राजस्व प्रााqप्त हो सकती है। कोयला ब्लॉकों की चल रही नीलामी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए गोयल ने यह भी कहा कि इस नीलामी से १२५ करोड़ भारतीय `बिजली की कम लागत’ से लाभााqन्वत होंगे। उन्होंने कहा कि इसके अलावा, ओडिशा, पाqश्चम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र जैसे कोयला खान समृद्ध राज्यों को `लाखों करोड़ रुपये की अतिरिक्त राजस्व प्रााqप्त होगी।