केजरीवाल ने मदर टेरेसा को पवित्र आत्मा बताया


नईदिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत के मदर टेरेसा पर दिए गए बयान पर विवाद शुरू हो गया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरिंवद केजरीवाल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिाqग्वजय िंसह ने मंगलवार को ाqट्वटर के जरिए मोहन भागवत के बयान की िंनदा की है।
मोहन भागवत ने सोमवार को कहा था कि मदर टेरेसा की गरीबों की सेवा के पीछे का मुख्य उद्देश्य लोगों का ईसाई धर्म में धर्मांतरण कराना था। केजरीवाल ने ट्वीट में लिखा कि मदर टेरेसा पवित्र आत्मा थीं उन्हें बख्श दिया जाए। वहीं आरएसएस विचारक मोहन भागवत के इस बयान के समर्थन में उतर आए हैं। आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा ने अपनी ट्वीट में लिखाः गैर सरकारी संगठन `अपना घर’ की ओर से आयोजित समारोह में भागवत ने कहा था, मदर टेरेसा की सेवा अच्छी रही होगी लेकिन इसमें एक उद्देश्य हुआ करता था कि जिसकी सेवा की जा रही है उसका ईसाई धर्म में धर्मांतरण किया जाए।’ उन्होंने कहा था, ‘सवाल सिर्पâ धर्मांतरण का नहीं है, लेकिन अगर यह (धर्मांतरण) सेवा के नाम पर किया जाता है, तो सेवा का मूल्य खत्म हो जाता हैै’ भागवत ने कहा, ‘परंतु यहां (एनजीओ) उद्देश्य विशुद्ध रूप से गरीबों और असहाय लोगों की सेवा करना है।’ सरसंघचालक भरतपुर से करीब आठ किलोमीटर दूर बजहेरा गांव में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। गांव में उन्होंने ‘महिला सदन’ और ‘शिशु बाल गृह’ का उद्घाटन किया।