केजरीवाल के खिलाफ यादव, भूषण को अन्ना के समर्थन की उम्मीद


नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरिंवद केजरीवाल पर “कमजोर” लोकायुक्त विधेयक लाकर भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से छलावा करने के आरोप लगाते हुए स्वराज अभियान के नेताओं ने आंदोलन को “फिर से तेज” करने की योजना की घोषणा की और उम्मीद जताई कि उन्हें अन्ना हजारे का समर्थन मिलेगा। आम आदमी पार्टी के नेता अरिंवद केजरीवाल के खिलाफ विद्रोह करने वाले नेताओं ने `भ्रष्टाचार पर दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी भ्रष्टाचार निरोधक कानूनों एवं संस्थानों को कमजोर करने के आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि आरटीआई कार्यकर्ता और भंडाफोड़ करने वाले “गैर राजनीतिक” अभियान में शामिल होंगे जिसके लिए “सिटीजंस ाqव्हस्लफ्लोअर फोरम” का गठन किया जाएगा। अभियान के नेता प्रशांत भूषण ने कहा, “हमने उम्मीद जताई थी कि लोकपाल के लिए आंदोलन (अन्ना हजारे द्वारा जारी) व्यापक होगा। अरिंवद केजरीवाल पार्टी के सुप्रीमो बन गए। पार्टी ने पहली सरकार यह कहते हुए भंग कर दी कि उसे लोकायुक्त नहीं लाने दिया जा रहा है।” उन्होंने कहा, “और जब लोकायुक्त विधेयक इसके वर्तमान कार्यकाल के दौरान पारित हुआ तो उन्होंने इतना कमजोर विधेयक तैयार किया कि एक ऐसी उपधारा जोड़ दी जिससे सुनिाqश्चत हो कि यह कानून नहीं बने। उन्होंने (केजरीवाल) पूरे आंदोलन से छलावा किया।” विधेयक को लेकर आप सरकार पर हमला करते हुए भूषण ने कहा कि इसमें पारर्दिशता की कमी है और लोकायुक्त के पास वेंâद्रीय मंत्रियों के भ्रष्टाचार से जुड़े मामले की जांच की शक्तियां देने को वेंâद्र “स्वीकार नहीं करेगा।”