किसानों से मिले राहुल कहा-जमीन बिल के खिलाफ पैदल मार्च करेंगे


नई दिल्ली। करीब दो महीने के अवकाश से लौटे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज आयोजित होने वाली किसान रैली से पहले आज अपनी पहली सार्वजनिक उपस्थिति में विभिन्न राज्यों से आए किसानों से मुलाकात की और संप्रग के कानून में नरेन्द्र मोदी सरकार की ओर से किये गए बदलाव के बारे में उनकी राय मांगी। राहुल गांधी के साथ राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट भी थे। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने उत्तरप्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, पंजाब और मध्यप्रदेश के किसानों के शिष्टमंडल से मुलाकात की और अपने आवास पर किसानों के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा की। कांग्रेस उपाध्यक्ष कल किसान रैली को संबोधित करेंगे जिसे राहुल को नये सिरे से पेश करने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है जो लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद पार्टी में नये सिरे से जान फूंकने का प्रयास करेंगे। राहुल ने किसानों से उनका दर्द जाना और मदद का भरोसा दिया। राहुल से मिलने के बाद किसानों ने बताया कि राहुल गांधी ने उनसे कहा है कि वो मोदी सरकार के जमीन बिल खिलाफ संसद मे जोरशोर से आवाज उठाएंगे। साथ ही किसानों के हक के लिए पैदल मार्च भी करेंगे। सचिन पायलट ने कहा कि आज की रैली ऐतिहासिक होगी। इसमें देशभर से दिल्लीr में लाखों की संख्या में किसान हिस्सा लेंगे। जिस तरह से कुछ लोगों के फायदे के लिए किसानों को ठगा जा रहा है, हम उसे लेकर भाजपा का पर्दाफाश करना चाहते हैं। किसानों के प्रतिनिधिमंडल में भट्टा परसौल गांव के किसान भी शामिल होंगे जहां से राहुल गांधी ने वर्ष २०११ में किसानों की जमीन का जबरन अधिग्रहण किए जाने के खिलाफ ‘पद्यात्रा’ की शुरूआत की थी। गौरतलब है कि पार्टी पहले ही यह स्पष्ट कर चुकी है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ किसानों की रैली को संबोधित करेंगे। राहुल सुबह ११ बजे अपने घर १२- तुगलक लेन पर किसानों से मुलाकात करेंगे। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी की वापसी के एक दिन बाद दिल्लीr में इशारों में राहुल गांधी के अगले कांग्रेस अध्यक्ष बनाये जाने की बात पर मुहर लगाते हुए कहा कि अब हमारे रिटायरमेंट का समय आ गया है, पेड़ों से पुराने पत्ते झड़ने के बाद नए पत्ते आने का समय आ गया है। दिग्विजय १९ अप्रैल की रैली को को लेकर हरियाणा कांग्रेस के नेताओं को सम्बोधित कर रहे थे जब उन्होंने यह बात कही। उन्होंने कहा मुझे, अहमद पटेल वगैरह को तीस से चालीस की उम्र में पीसीसी का चीफ बनाया गया था और अब वक्त युवाओं का है। कांग्रेस की १९ अप्रैल को लैंड बिल के खिलाफ दिल्लीr के रामलीला मैदान में होने वाली रैली की तैयारी ज़ोरो पर हैं। रामलीला मैदान और उसके आसपास का इलाका राहुल और सोनिया गांधी के पोस्टर से पाट दिया गया है। दिल्लीr में कल कांग्रेस की किसान रैली है। उससे पहले आज राहुल गांधी होमवर्क करने में जुटे हैं। राहुल गांधी अपने घर पर किसानों से मिले। हर राज्य से पांच किसान प्रतिनिधि राहुल से मिलने पहुंचे। राहुल किसानों से बात कर उनकी राय ली ताकि भूमि अधिग्रहण बिल पर मोदी सरकार को घेरने की रणनीति बनाई जा सके। देखें तस्वीरें।। लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस लैंड बिल के बहाने पहली बड़ी रैली करने जा रही है। रामलीला मैदान में भव्य तैयारिया की जा रही पूरे मैदान में हज़ारों कुर्सियां लगाई गई हैं। साथ ही सोनिया राहुल के मंच के साथ ही वीआईपी मंच भी लगाया गया है। साथ सुरक्षा एजेंसिया भी पूरी मुस्तैदी के साथ जुटी हुई। हर गेट पर मेटल डेटेक्टर और कैमरे लगाये जा रहे हैं। कांग्रेस को इस रैली में देश भर से हज़ारो किसानो के पहुचने की उम्मीद है।