काशी विश्वनाथ मंदिर का शिखर झुका


वाराणसी। विश्वप्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर का शिखर झुक गया है। हाल ही में मंदिर के वास्तु की एक जांच में यह बात सामने आई है कि इस झुकाव का कारण सीलन हो सकती है जो िंसथेटिक पेंट की वजह से चिपक गयी है।
जांच टीम के अनुसार, विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह की सतह कुछ नीचे हो गई है और दोनों स्वर्ण शिखर थोड़े झुक गए हैं। माना जा रहा है कि विश्वनाथ मंदिर की भवनों पर लगे िंसथेटिक पेंट की वजह से मंदिर की पत्थरों को नुकसान पहुंचा है।
विश्वनाथ मंदिर परिसर में लगातार सीलन बढ़ रहा है, इससे इसकी नींव कमजोर पड़ रही है। लेकिन मंदिर के स्वर्ण शिखर के झुके होने की अभी वैज्ञानिक जांच होनी है। इस बात की पुाqष्ट के लिए विश्वनाथ मंदिर की पुरानी तस्वीरों की जांच की जाएगी।
इसके लिए अंग्रेज चित्रकार जेम्स िंप्रसेप के स्केच (ड्राइंग) को भी देखा जाएगा। सूक्ष्म जांच के बाद इसकी रिपोर्ट उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भेजी जाएगी।
विश्वनाथ मंदिर का पुर्निनर्माण सन १७७७ में इंदौर की महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था। सन १८५३ में पंजाब के महाराजा रणजीत िंसह ने मंदिर के दोनों शिखरों को २२ टन सोने से स्वर्णमंडित करवाया था। विश्वनाथ मंदिर शिखर की ऊंचाई ५१ फीट है।