कांग्रेस नेता अरुण यादव विरुद्ध राष्ट्रध्वज अपमान का परिवाद


इंदौर। राष्ट्रध्वज तिरंगे के अपमान के आरोप में मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव के खिलाफ इंदौर जिला सत्र न्यायालय के प्रथम श्रेणी न्यायिक दण्डाधिकारी के समक्ष निजी परिवाद पेश किया गया। न्यायिक दण्डाधिकारी राकेश सनोठिया ने पेश परिवाद को दायर करते हुए परिवादी के बयान के लिए आगामी दस मार्च तय की है। परिवादी प्रीति बिड़ला द्वारा न्यायालय के समक्ष पेश परिवाद आवेदन के अनुसार अरुण यादव द्वारा २२ फरवरी को कांग्रेस कार्यकर्ताओ के साथ इंदौर ाqस्थत राजवाड़े से वूâच करते हुए यहा ाqस्थत राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के अर्चना कार्यालय पर पहुंचकर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया गया। पेश परिवाद में आरोप लगाते हुए कहा गया है कि यादव द्वारा वूâच के दौरान िंतरंगे को हाथो में रखकर पैदल मार्च निकाला गया। जबकि इसी समय कांग्रेस कार्यकर्ता कांग्रेस का प्रतीक ध्वज हाथो में लिए लहरा रहे थे। इसी तरह राष्ट्रीय ध्वज यादव द्वारा अर्चना कार्यालय पर फहराए जाने के दौरान और बाद में कार्यालय पर संघ का प्रतीक भगवा ध्वज तिरंगे से उचा लहरा रहा था। यादव पर पेश परिवाद में राष्ट्रीय ध्वज का राजनैतिक लाभ लेने के लिए उपयोग करने का आरोप भी लगाया गया हैं। न्यायालय के समक्ष पेश परिवाद में उक्त कृत्यों को राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम १९७१ का उल्लंघन बताया गया हैं। परिवादी की और से पैरवी अधिवक्ता मनीष पालिवाल ने की।