कश्मीरी पुनर्वास के विरोध में यासिन, मलिक व अग्निवेश हिरासत में


श्रीनगर। विस्थापित कश्मीरी पंडितों के लिए अलग से टाउनशिप बसाने के वेंâद्र सरकार के प्रस्ताव का विरोध कर रहे मलिक कश्मीर घाटी में अनशनरत मलिक को पुलिस ने विरोध प्रदर्शन और मार्च निकालने के आरोप में हिरासत में ले लिया जिसके बाद श्रीनगर में मलिक समर्थकों और पुलिस में काफी झड़पें हुई थी।उधर मामले में मलिक के साथ समाजसेवी स्वामी आqग्नवेश को भी हिरासत में लिया गया है। ये दोनों कश्मीर बंद के दौरान नरबला जा रहे थे।
० कश्मीर में इजरायल नहीं दोहराएंगे : मुफ्ती
इससे पहले राज्य विधानसभा में मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहममद सईद ने स्पष्ट किया कि था कि जो इजरायल में हुआ वह कश्मीर में नहीं दोहराया जाएगा। कश्मीर में पंडितों को अलग से नहीं बाqल्क समाज में उनके अपने घरों में ही बसाया जाएगा। उन्होंने गृहमंत्री राजनाथ िंसह से मुलाकात में भी स्पष्ट कर दिया था कि कश्मीरी पंडित घाटी में अलग से नहीं रह सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अगर नया श्रीनगर या सेटेलाइट टाउनशिप बनती भी है तो वह सबके लिए होगी। यह सुनिाqश्चत किया जाएगा कि वहां कश्मीर की धर्मनिरपेक्षता बरकरार रहे। मुफ्ती ने कहा कि कश्मीरी पंडित समुदाय ने देश में विशिष्ट स्थान बनाया है, उनमें दस से पंद्रह फीसद लोग ही वापस आएंगे। जितने भी लोग वापस आएंगे, उन्हें समाज में बसाने के लिए उचित माहौल बनाया जाएगा, उन्हें भी कश्मीरियत को बुलंद रखना चाहिए, ताकि देश में राज्य की छवि खराब न हो। इसके लिए सबके सहयोग करने की जरूरत होगी।