ओलांद ने दी गांधीजी को श्रद्धांजलि


० इंटर गवर्नमेंट पैनल की सहमति के बाद होगा रापेâल खरीदी करार
नईदिल्ली। गणतंत्र दिवस पर प्रवास पर आये प्रâांस के राष्ट्रपति ने भारत के साथ संयुक्त रूप से मिलकर आतंकवाद व पर्यावरण की चुनौती पर विश्व की एकजुटता को अनिवार्य बताया। रविवार को भारत पहंचे प्रâांस के राष्ट्रपति ओलांद ने राजघाट पहुंचकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। भारत दौरे के पहले दिन जहां कई समझौते पर सहमति बनी। इस अवसर पर राष्ट्रपति ओलांद ने कहा कि पेरिस में पीएम मोदी ने कुछ शर्तों के साथ ३६ रापेâल विमानों की खरीद संबंधी जो घोषणा की थी जिसके कॉन्ट्रैक्ट पर हस्ताक्षर इंटर गवर्नमेंट पैनल की सहमति के बाद ही हो सकता है। इस मुद्दे पर दोनों देशों के बीच बातचीत होगी। इससे पहले उन्होंने कहा था कि रापेâल के मुद्दे पर दोनों देश सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। कुछ तकनीकी मुद्दों को सुलझाने की कोशिश चल रही है। सोमवार को प्रâांस्वा ओलांद का दिल्ली में औपचारिक स्वागत किया जाएगा। ओलांद की इस यात्रा में ३६ रापेâल फाइटर जेट डील पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। दोनों देशों के बीच यह करीब ६०,००० करोड़ रुपये की डील है। प्रâांस के राष्ट्रपति के साथ करीब १०० सदस्यों का एक प्रतिनिधिमंडल भी आया है। जिसमें डेसाल्ट एविएशन और डीसीएनएस के अधिकारी शामिल हैं। रापेâल फाइटर जेट डेसाल्ट का ही ब्रांड है। डील सिर्पâ राशि निर्धारण को लेकर अटकी है। प्रâांसीसी वंâपनी की कीमत भारत को मंजूर नहीं है। विमान दसॉल्ट एविएशन बना रही है और भारत को उसे टेक्नोलॉजी भी देनी है।

०राष्ट्रपति भवन प्रâांस के राष्ट्रपति का स्वागत
हैदराबाद हाऊस में पीएम मोदी के साथ मुलाकात से पहले ओलांद राष्ट्रपति भवन पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया। उनके सम्मान में गॉर्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया। राष्ट्रपति भवन में हुए स्वागत से अभिभूत प्रâांस के राष्ट्रपति ओलांद बोले कि गणतंत्र दिवस पर अतिथि बनकर वे गौरान्वित महसूस कर रहे हैं। आईएसआईएस धमकी का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर आतंकवाद का सामना करेंगे। इससे पहले प्रणव मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन में ओलांद का स्वागत किया, जिसके बाद उनको गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया। वहां पीएम नरेंद्र मोदी समेत उनके वैâबिनेट के कई मंत्री मौजूद रहे।
राकेश/२५जनवरी/२०१६/ईएमएस