ओबामा ने कहा, भारत और अमेरिका सर्वश्रेष्ठ साझेदार हैं


– ओबामा ने नमस्ते के साथ की भाषण की शुरुआत
– गांधी और विवेकानंद को किया याद
नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपने तीन दिवसीय दौरे के आखिरी दिन दिल्ली के सीरी फोर्ट ऑडिटोरियम में भाषण दिया। उन्होंने स्वामी विवेकानंद के अंदाज में भारतीयों को ‘मेरे भारतीय भाइयों और बहनों’ के रूप में संबोधित करके मन मोह लिया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि गणतंत्र दिवस के मौके पर बुलाने लिए शुक्रिया। ओबामा ने मंच पर आते ही नमस्ते कहकर अपने संबोधन की शुरुआत की।
राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि गांधीजी की भूमि पर आना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। स्वामी विवेकानंद िंहदुत्व और योग को लेकर अमेरिका आए। आज १०० साल के बाद मैं स्वामी विवेकानंद को याद कर रहा हूं। ओबामा ने कहा कि एशिया प्रशांत में भारत की भूमिका सबसे अहम है। हम सबका लक्ष्य परमाणु खतरे से मुक्त दुनिया हो। हमारी दोस्ती परमाणु सहयोग से आगे बढ़ रही है। यूएन में भारत को स्थाई सदस्यता मिलनी चाहिए। आतंकवाद के खिलाफ दोनों देशों के मिलकर लड़ना होगा। उन्होंने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन किया और कहा कि अमेरिका भारत का ‘बेस्ट पार्टनर’ बनना चाहता है और साथ मिलकर काम करना चाहता है।

– नारी शक्ति की तारीफ
ओबामा ने भारतीय सेना में नारी शक्ति की तारीफ करते हुए कहा कि मेरे लिए इस दौरे पर सबसे अहम चीज भारतीय सेना में नारी शक्ति का प्रदर्शन देखना रहा। खास तौर से मुझे गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली अधिकारी भी।अमेरिका में आज भी हम महिलाओं के समान अधिकारों और उनके प्रति समान व्यवहार के लिए काम कर रहे हैं।

– कुक का पोता राष्ट्रपति और चायवाले का बेटा बना पीएम
अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत और अमेरिका के बीच कई समानताएं बताते हुए कहा कि ये दोनों देशों को करीब लाती हैं। उन्होंने कहा कि मेरे पिता केन्या में ब्रिटिश आर्मी में कुक हुआ करते थे। जब हम पैदा हुए थे तो मेरे जैसे दिखने वाले लोग कई हिस्सों में वोट भी नहीं कर सकते थे। लेकिन हम ऐसे देशों से हैं जहां कुक का पोता राष्ट्रपति बन सकता है और एक चायवाले का बेटा भी प्रधानमंत्री बन सकता है।

– मेहमाननवाजी की तारीफ
अपने प्रभावी वक्तव्यों के लिए मशहूर ओबामा ने भारतीय मेहमाननवाजी की भी खूब तारीफ की। उन्होंने बीच-बीच में अपने सेंस ऑफ ह्यूमर का भी खूब इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि भारतीय गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने वाला पहला अमेरिकी राष्ट्रपति बनना मेरे लिए गर्व की बात है। पिछली बार हम भारत आए थे तो हमने मुंबई में बच्चों के साथ डांस किया था और रोशनी का त्योहार (दीवाली) मनाया था। लेकिन दुर्भाग्य से इस बार हम बच्चों के साथ डांस नहीं कर सके। हमें भारत में दोबारा बुलाने के लिए ‘बहुत धन्यवाद’।

– बच्चों से की मुलाकात
भाषण के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने वहां मौजूद लोगों से मुलाकात की। इस कार्यक्रम में ओबामा के साथ शांति के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित वैâलाश सत्यार्थी भी मौजूद थे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने यहां तीन स्पेशल बच्चों से भी मुलाकात की, जिन्हें बाल मजदूरी से सत्यार्थी की संस्था ‘बचपन बचाओ’ ने छुड़ाया था।

भाषण की खास बात
– ओबामा ने शाहरुख और काजोल की फिल्म डीडीएलजे के सेनोरिटा बड़े बड़े देशों में..डायलॉग का जिक्र किया.
– धर्म की आड़ में महिला विरोधी काम होते हैं. ओबामा ने परेड में नारी शक्ति की तारीफ की. कहा- भारतीय सेना में महिला को नेतृत्व करते देखकर खुशी हुई.
– परिवार में पैसों की तंगी, रंगभेद और भेदभाव का जिक्र किया. ओबामा ने अपने और मिशेल के परिवारों की कहानी सुनाई.
– ओबामा ने पिछले दौरे पर हुई विशाल से मुलाकात का जिक्र किया, उसके संघर्ष की कहानी बताई।कहा- विशाल से मैं हुमायूं के मकबरे पर मिला था।विशाल आज १६ साल का है, उसे स्वूâल भेजने के लिए पूरा परिवार जुटा।
– ओबामा ने मोदी के जनधन, स्मार्ट सिटी, बुलेट ट्रेन के सहयोग की बात कही।
– ओबामा ने कहा- भारत में ज्यादातर लोग ३५ साल से कम के हैं। आप जैसे युवा दुनिया का भविष्य संवार सकते हैं। शाहरुख खान, मिल्खा िंसह और बॉक्सर मैरीकॉम पर भारतीयों को गर्व है।
– भारत में बहुत विविधता है,।यह दुनिया के लिए मिसाल है। भारत और अमेरिका की विविधता उसकी ताकत है। दूसरी बार भारत आया हूं लेकिन यह अंत नहीं।
– ओबामा ने अमेरिका में ३५ लाख भारतीय होने पर गर्व की बात कही। ओबामा ने िंहदी में जय िंहद कहकर अपने भाषण का समापन किया।