ऑपरेशन ब्लू स्टार की 32वीं बरसी : सुरक्षा हेतु छावनी बना अमृतसर


-दल खालसा के बंद से निपटने के लिए मुस्तैद पुलिसकर्मी
अमृतसर । ऑपरेशन ब्लू स्टार के ३२ साल पूरे होने पर अमृतसर के पवित्र सिख तीर्थस्थल स्वर्णमन्दिर में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किये गये हैं। चप्पे-चप्पे पर तैनात सुरक्षाकर्मियों से शहरे छावनी में तब्दील हो गया है। कट्टर सिख संगठन दल खालसा ने सोमवार को अमृतसर बंद का ऐलान किया है। इस मामले में पुलिस का कहना है कि किसी भी ाqस्थति में जबरन दुकानें या अन्य व्यावसायिक संस्थान बंद नहीं कराने दिया जाएगा। एहतियात के तौर पर पंजाब पुलिस ने करीब १३० लोगों को नजरबंद कर दिया है। इनमें से ज्यादा कट्टर सिख संगठन के लोग ही हैं। कई नेता हिरासत में लिए गए पुलिस ने दल खालसा, यूनाइटेड अकाली दल और शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के कई नेताओं को हिरासत में लिया है। रातभर पुलिस ने छापेमारी की। ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी को ध्यान में रखते हुए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी fिसविल और पुलिस प्रशासन के लोगों ने सुरक्षा इंतजामों को लेकर पहले ही कई तरह की रणनीतियां बनाई हैं। शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए ८००० पुलिसर्किमयों को लगाने के अलावा पैरामिलिट्री फोर्सेज आरएएफ, सीआरपीएफ और आईटीबीपी के जवानों को भी तैनात किया गया है।
एसजीपीसी ने मंदिर में सुरक्षा के लिए करीब ५०० कर्मचारियों को लगाया है, जबकि अकाली दल ने भी पार्टी कार्यकर्ताओं को एसजीपीसी का सहयोग करने को कहा है। गोल्डेन टेंपल में खुफिया विभाग और पुलिस विभाग के लोग सादी वर्दी में तैनात रहेंगे। जगह-जगह सीसीटीवी वैâमरे भी लगाए गए हैं। सुबह सात बजे भोग सेरेमनी शुरू हुई। अकाल तख्त के जाथेदार ज्ञानी गुरबचन िंसह ने सिख समुदाय के लिए संदेश पढ़ा। अकात तख्त ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।