एनएसजी : अंतिम दौँर की बातचीत समाप्त


सियोल। सियोल में एनएसजी के मुद्दे पर उच्च स्तरीय बातचीत समाप्त हो चुकी है। औपचारिक तौर पर बस बातचीत के परिणाम का इंतजार है। हालांकि एनएसजी में भारी की दावेदारी की संभावना नगण्य नजर आ रही है। इसमें पहले भारत ने चीन को मनाने की बहुत कोशिश की थी। लेकिन चीन नेे अपने इरादे को साफ कर दिया कि नियम-कानून एनएसजी के सदस्यों ने बनाए हैं, लिहाजा उन शर्तो का पालन होना चाहिए। एनएसजी के 48 देशों के समूह में से अब तक 47 देशों ने अपना समर्थन दिया था। भारत में अमेरिका के राजदूत रिचर्ड वर्र्मा ने कहा कि 6 साल पहले राष्ट्रपति ओबामा ने भारत को समर्थन देने का वादा किया था। ये एक कूटनीतिक प्रक्रिया होती है जिसमें जल्दबाजी नहीं की जा सकती है। हमें बहुत जल्दी किसी निर्णय पर नहीं पहुंचना चाहिए। सूत्रों के हवाले से खबर है कि आज ब्राजील ने भारत के समर्थन की बात कही। ब्र्राजील ने कहा कि भारत का परमाुण रिकार्ड पाकिस्तान से बेहतर है।