इशरत जहां मुठभेड़ के गायब दस्तावेज तलाशे जायेंगे


नई दिल्ली। वेंâद्रीय गृह सचिव राजीव मर्हिष ने इशरत जहां मामले के गायब दस्तावेज तलाशने का निर्देश दिया है. इस मामले की जांच में लगातार हो रही देरी पर भी सवाल उठ रहे हैं। जानकारी के अनुसार वेंâद्रीय गृह सचिव राजीव मर्हिष ने अतिरिक्त सचिव बी.के. प्रसाद को इस मामले की जांच जल्द खत्म करने को कहा है।
दरअसल सरकार जानती है कि चल रहे सत्र में उससे इशरत के ऊपर कई सवाल पूछे जाएंगे, इसलिए वह जांच जल्द खत्म करना चाहती है।
१५ जून २००४ को अहमदाबाद में एक मुठभेड में चार आतंकी मारे गए थे, जिनमें इशरत जहां नाम की एक कॉलेज जाने वाली छात्रा भी थी। उसका दूसरा साथी जावेद शेख था। दो अन्य आतंकी भी उसके साथ थे, जिनके बारे में कहा जाता है कि वे पाकिस्तानी नागरिक थे।
इनके मरने के बाद कुछ लोगों ने यह आरोप लगाने शुरू किए कि यह लोग आतंकी नहीं थे और पुलिस ने इनको गोली मारकर मार दिया और मरे हुए लोगों के हाथ में हथियार थमा दिए। कुछ मानवाधिकार संगठन इस मामले को लेकर पूरे घटनाक्रम की जांच करने की मांग करने लगे।