‘आप’ पार्टी को चंदा देने में ओबामा और मोदी भी शामिल


नई दिल्ली । आप के चंदा विवाद में नया खुलासा हुआ है। खुलासा ये है कि आप को चंदा देने वालों में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं।
आम आदमी पार्टी की वेबसाइट पर जो जानकारी है उसके मुताबिक बराक ओबामा के नाम से आप को २०० रुपये का चंदा ३ फरवरी को दिया गया। बराक हुसैन ओबामा के नाम से एक रुपये का चंदा २ फरवरी को दिया गया। नरेंद्र मोदी के नाम से भी ५०० रुपये का चंदा दिया गया। वो भी ३ फरवरी को दिया गया था। ओबामा और मोदी के नाम पर दिया गया चंदा सिर्फ ८ मिनट के अंतराल पर दिया गया। आम आदमी पार्टी के चंदा विवाद पर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि यह काले धन का मामला लगता है। कंपनियों का इस्तेमाल किया गया। चंदा देने वाली कंपनियों को कोई फायदा नहीं हुआ है। आम आदमी पार्टी पर लगा है फर्जी कंपनियों से दो करोड़ का चंदा लेने का आरोप है। एनजीओ अवाम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और फंडिंग में धोखाधड़ी का आरोप लगाया। वहीं आम आदमी पार्टी का दावा है कि चंदे में कुछ भी गलत नहीं हुआ है। आम आदमी पार्टी इन्हीं चार कंपनियों से दो करोड़ चंदे को लेकर आरोपों के घेरे में हैं और आरोप लगाने वाले आप के ही पुराने कार्यकर्ता हैं। आप वॉलेंटियर्स एक्शन मंच यानी अवाम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके आरोप लगाया है कि फर्जी कंपनियों के जरिये काला धन आप ने जमा किया है। अवाम के आरोपों पर आप ने कहा है कि चंदा सही तरीके से लिया गया है और खुद मोदी सरकार ने इसकी पुष्टि की है। फर्जी फंडिंग के इस विवाद के बाद बीजेपी को भी मौका मिल गया है। पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया है कि आम आदमी पार्टी चंदे में काला धन लेती है। दिल्ली में चुनाव प्रचार आखिरी दौर में है। ऐसे में अब इस तरह के आरोपों ने आम आदमी पार्टी को बैक फुट पर ला दिया है। सवाल ये है कि २ करोड़ के इस चंदे की हकीकत क्या है। आप के चंदा विवाद से दिल्ली की राजनीति तपने लगी है। अवाम नाम के एनजीओ ने आरोप लगाया है कि आप ने बोगस कंपनियों से २ करोड़ का चंदा लिया। अब जांच के लिए आप की ओर से एसआईटी बनाने का प्रस्ताव दिया गया है। आप के ५ नेता आज सुप्रीम कोर्ट जाएंगे और एसआईटी बनाने की मांग करेंगे। आप बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से पार्टी फंडिंग की जांच में सहयोग की अपील भी करेगी। आप के आशुतोष ने कहा है कि अगर अमित शाह और सोनिया गांधी सहमत हों तो आप के प्रस्ताव पर एसआईटी बन सकती है। अगर हां तो आज ही एसआईटी बनाने की घोषणा कर देनी चाहिए।