आपदा प्रबंधन राहत योजना से रुक सकती है किसानों की आत्महत्या


नागपुर। वसंतराव नाइक शेति स्वावलंबन मिशन ने किसानों की आत्महत्या रोकने के लिए महाराष्ट्र सरकार को अपनी अध्ययन रिपोर्ट सौंप दी है। राज्य सरकार ने मिशन को इस सिलसिले में सुझाव देने को कहा था। मिशन के अध्यक्ष किशोर तिवारी ने बताया कि सरकार को किसानों की आत्महत्या रोकने के लिए दो उपाय करने को कहा गया है। इनमें एक है-आपदा प्रबंधन राहत योजना बनाना और दूसरा-कृषि संकट के मूल मुद्दों का समाधान करने के लिए एजेंडा तैयार करना। आपदा प्रबंधन राहत योजना के तहत खाद्य और स्वास्थ्य सुरक्षा, बेहतर कृषि ऋण सुविधा, सभी किसानों को बिजली-पानी का कनेक्शन और उनके बच्चों को शिक्षा मुहैया कराने का सुझाव दिया गया है। इसके साथ ही मनरेगा के तहत किसानों को रोजगार के ज्यादा अवसर दिए जाने का सुझाव दिया गया है।
इसके अलावा मिशन ने अपनी रिपोर्ट में कृषि संकट के मूल मुद्दों का समाधान करने के लिए एजेंडा तैयार करने का सुझाव दिया है। इसके लिए मिशन ने सूखे की आशंका वाले क्षेत्रों में समग्र और टिकाऊ कृषि नीति लागू करने को कहा है। उल्लेखनीय है कि पिछले छह महीनों से मिशन किसानों को यह सुझाव दे रहा है कि बेहतर बीज और खाद वगैरह का इस्तेमाल कर किस तरह पैदावार को ४० फीसद तक बढ़ाया जा सकता है।