आईएस को भारत में खड़ा करने साजिश


मुंबई। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई भारत में आतंकी संगठन आईएस को खड़ा करने की साजिश रच रही है। पिछले हफ्ते गिरफ्तार १४ आतंकियों की जांच में यह खुलासा हुआ है। इसके लिए आईएसआई इंडियन मुजाहिदीन के पूर्व आतंकी सफी अरमर का इस्तेमाल कर रही है। दूसरी ओर सभी गिरफ्तार आतंकी पिछले महीने सूडान से प्रत्र्यिपत किए गए आतंकी के संपर्वâ में थे। प्रत्यर्पण के बाद एनआइए ने उसे गिरफ्तार कर लिया था।
पाकिस्तान भले ही अपने यहां आईएस के संदिग्ध आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा हो, लेकिन दूसरी ओर भारत में आईएस को खड़ा करने में मदद कर रहा है। सुरक्षा एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सफी अरमर की आईएसआई के साथ संबंध की पुख्ता जानकारी मिली है। आठ महीने पहले वह पाकिस्तान में मौजूद था और आइएसआइ ने उसे इराक व सीरिया जाने में मदद की थी, ताकि वह आईएस में शामिल हो सके।
इसके बाद आईएसआई के इशारे पर सफी अरमर भारत में आइएस को खड़ा करने की कोशिश करने लगा। इसके पीछे आईएसआई की मंशा यह है कि भारत आइएस के आतंकी हमलों की साजिश का आरोप पाकिस्तान पर नहीं लगा सकेगा। आईएसआई की नई रणनीति से सुरक्षा एजेंसियां सतर्वâ हो गई हैं।
गौरतलब है कि पिछले महीने सूडान से २३ वर्षीय मोहम्मद नजीर को प्रत्र्यिपत किया गया था। आरोप है कि चेन्नई का रहने वाला यह युवक सूडान के रास्ते लीबिया जाने की कोशिश कर रहा था, जहां वह आईएस में शामिल होता। चेन्नई का रहने वाला मोहम्मद नजीर कम्प्यूटर इंजीनियिंरग में डिप्लोमा है और २०१४ से दुबई में काम कर रहा था। १२ दिसंबर को दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरते ही एनआईए ने उसे गिरफ्तार कर लिया था।