अमित शाह को दोबारा भाजपा की कमान, निर्विरोध चुने गए


नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को दोबारा भाजपा की कमान मिल गयी है। उन्हें औपचारिक तरीके से दूसरी अवधि के लिए चुना गया। पार्टी मुख्यालय में अमित शाह ने 17 सेट्स में नामांकन दाखिल किया। आवेदन पत्र की जांच के बाद सर्वसम्मति से उनके नाम का ऐलान कर दिया गया।पार्टी के वरिष्ठ नेता और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अमित शाह की दोबारा ताजपोशी पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि अमित शाह में उनका पूर्ण विश्वास है। भाजपा उनकी अगुवाई में नया मुकाम हासिल करेगी। अमित शाह के प्रस्तावकों में पीएम मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, जे पी नड्डा, मुख्तार अब्बास नकवी, नितिन गडकरी, मनोहर पर्रिकर और सभी भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल थे। पार्टी मुख्यालय को अमित शाह के समर्थन में कार्यकर्ताओं ने होर्डिंग्स और बैनर के जरिए सम्मान किया गया है। इसके पहले वे राजनाथ सिंह के शेष बचे कार्यकाल में अध्यक्ष पद संभाल रहे थे। मोदी की रात्रिभोज को पार्टी और सरकार के बीच और ज्यादा बेहतर तालमेल बनाने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है।
देश के अलग अलग इलाकों में अमित शाह की ताजपोशी पर जश्न मनाया जा रहा है। बेंगलुरु में कार्यक्रताओं ने जमकर पटाखे फोड़े।
राजनाथ के बाद मिला था पद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेहद भरोसेमंद माने जाने वाले शाह को जुलाई 2014 में उस वक्त अध्यक्ष चुना गया था, जब राजनाथ सिंह केंद्रीय गृह मंत्री बना दिए गए थे। अमित शाह अभी तक राजनाथ सिंह के अध्यक्ष कार्यकाल के शेष अवधि में अपने कर्तव्यों का निर्वाह कर रहे थे। मोदी की रात्रिभोज में भाजपा संसदीय बोर्ड के सभी सदस्यों के साथ-साथ पार्टी के सभी वरिष्ठ पदाधिकारी भी मौजूद थे। संसदीय बोर्ड में लगभग वरिष्ठ मंत्री सदस्य है। जाहिर रात्रिभोज में पार्टी और सरकार की पूरी भागीदारी दिखी। दिल्ली और बिहार विधानसभा चुनाव की हार और संसद में विपक्ष के गतिरोध के कारण पार्टी और सरकार दोनों दबाव में है। ऐसे में मोदी ने पार्टी और सरकार को साथ-साथ मिलकर चलने का संदेश दिया।प्रधानमंत्री ने पार्टी पदाधिकारियों को सरकार की उपलब्धियों को आम जनता तक पहुंचाने को कहा, वहीं मंत्रियों को पार्टी के कार्यकर्ताओं से संपर्क बनाए रखने की जरूरत बताई। इनके बीच खाई सरकार और पार्टी दोनों के लिए नुकसानदेह हो सकता है।