अब ब्रिटेन में आवाज बुलंद करेंगी सिर पर मैला ढ़ो चुकी ऊषा


नई दिल्ली। राजस्थान में सिर पर मैला ढोने का काम कर चुकी ऊषा को ब्रिटेन के एक सम्मेंलन को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया गया है।लोक कल्याण के लिए काम करने संगठन `सुलभ इंटरनेशनल’ ने ऊषा के जीवन निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।ऊषा चमार आज `स्वच्छता और भारत में महिला अधिकार’ विषय पर पोट्र्समाउथ विश्वविद्यालय में `ब्रिटिश एसोसिएशन आफ साउथ एशियन स्टडीज’ के वाषिर्वâ सम्मेलन में लोगों को संबोधित करेगी।इस महिला ने नयी दिल्ली से एयर इंडिया के विमान में सवार होने से पहले कहा, “इस तरह के महत्वपूर्ण सम्मेलन में शामिल होने के लिए ब्रिटेन जाना सपना सच होने जैसा है।”अलवर शहर की हजूरीगेट हरिजन कालोनी की रहने वाली उषा भारत से बाहर अब तक की सबसे लंबी यात्रा पर बीएबीएएस सम्मेलन में ब्रिटेन के शीर्ष शिक्षाविदों और नीतिनिर्माताओं से मिलेगी।सुलभ इंटरनेशनल के एक प्रवक्ता ने कहा कि उषा सिर पर मैला ढोने का काम करती थी और उसे `अछूत’ माना जाता था लेकिन शौचालयों सुलभ इंटरनेशनल ने ऊषा पुनर्वास किया था।