अफजल के जेल में 13 सालों का बदला 13 हमलों से लेगा जैश-ए-मोहम्मद


नई दिल्ली । पठानकोट एयरबेस पर फिदायीन हमले के कुछ दिन पहले पाक आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के बीच हुई बातचीत से सुरक्षा एजेंसियां चौकस हो गई हैं। इस बातचीत में भारत पर श्रृंखलाबद्ध आतंकी हमलों को लेकर बात की जा रही है। जैश ए मोहम्मद के साथ नया काडर जुड़ा है और यह अफसर गुरु के जेल में बिताए गए १३ सालों को बदला लेने के लिए भारत पर १३ हमले करेगा।’ इसमें की गई बातचीत के मुताबिक जैश ए मोहम्मद को हर तरफ से समर्थन हासिल है। इस बातचीत में अज्ञात आवाज मोस्ट वांटेड आतंकी मौलाना अब्दुल रऊफ की बताई जा रही है। ये जैश के चीफ मौलाना मसूद अजहर का भाई है। र्ऊफ ही १९९९ में इंडियन एयरलाइंस के हाईजैक किए गए घ्ण्-८१४ का मास्टरमाइंड था। इस घटना ने ही अजहर की रिहाई का रास्ता साफ किया था। अधिकारियों के मुताबिक, जैश कमांडरों की ऐक्टिविटीज और फोन नंबर्स को पिछले कई महीनों से मॉनिटर किया जा रहा है। इसी के बाद इसकी जानकारी मिली की जैश फिदायीन आतंकियों की भर्ती भी कर रहा है, जिसमों महिला फिदायीनों के लिए स्पेशल यूनिट है। जैश के कुछ अहम कमांडरों और हैंडलर्स के नाम भी सुरक्षा एजेंसियों तक पहुंचे हैं जो इस संगठन को फिर से जिंदा करने में अहम भूमिका निभा रहे हैं। हालांकि, यह नाम चर्चित नहीं है लेकिन ट्रांसक्रिप्ट ने जैश और पाकिस्तानी अफसरों के बीच रिश्ते का सच भी उजागर किया है। पठानकोट एयरबेस पर हमला करने वाले आतंकियोंने पाक सैन्य अफसरों की नाक के नीचे इसे अंजाम दिया।