VPS Bulletin : व्यापारी सजग रहें, ‘हनी ट्रेप’ में फंसाने सक्रिय है महिलाओं का गिरोह


व्यापारियों एवं व्यापार हित के लिए व्यापार प्रगति संघ सदैव तत्पर है।
Photo/Loktej

साप्ताहिक रविवारीय बैठक की रपट

काम करोगे तो पंच कहलाओगे  – संजय जगनानी

व्यापारियों एवं व्यापार हित के लिए व्यापार प्रगति संघ सदैव तत्पर है। संघ के संस्थापक सजंय जगनानी के नेतृत्व में प्रति रविवार को सुबह 8 से 9 बजे तक शिवाजी गार्डन, राम चौक के पास आहूत की जाती है। जिसमें बड़ी संख्या में व्यापारी उपस्थित होकर अपनी समस्याएं एवं सुझाव पेश करते हैं। रविवारीय साप्ताहिक बैठक में संजय जगनानी ने उपस्थित सभी प्रबुद्घ व्यापारियों से आह्वान करते हुए कहा कि आप सभी लोग पंच हो।

सभी व्यापारी बंधु व्यापारियों के सहयोग हेतु संघ का पंच बनें और अलग-अलग राज्यों एवं मंडियों में व्यापारियों के फंसे रुपये निकलवाने में उनका हर संभव मदद करें। व्यापारियों के इस प्रयास से कपड़ा मार्केट को गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि संगठन व्यक्ति प्रधान न हो इसके लिए वीपीएस के सभी सदस्यों को मिल कर काम करना चाहिए।

व्यापार भले 20 प्रतिशत कम हो, लेकिन ठोक-बजाकर करें व्यापार

बैठक में वीपीएस अग्रणी अरविंद गाडिय़ा ने कहा कि सिल्क सिटी सूरत में कपड़ा उद्योग की स्थिति दिन-प्रति दिन बिगड़ती जा रही है, जिसके लिए हमारे व्यापारीभाई भी काफी हद तक जिम्मेदार हैं। अमुक व्यापारी के फ्राड होने के बावजूद उसे धड़ल्ले से माल मिल जाता है। व्यापारियों में जागरुकता और एक-दूसरे के प्रति सहयोग की भावना का अभाव है। यदि व्यापारी बंधुओं में जागरुकता होती तो फ्रॉड करने वाले व्यापारियों को माल नहीं मिलता। लेकिन दुर्भाग्य है कि मार्केट की कमर तोडऩे वाले ऐसे व्यापारियों को सरलता से माल उपलब्ध हो जाता है। सूरत के व्यापारियों का पैसा उनकी गलती से ही अटकता है। व्यापारी बिना अच्छे से जांच परख किये माल की डिलीवरी कर देते हैं। मार्केट के सभी व्यापारियों को सुधरना होगा। अच्छे से रिफरेंस के बाद ही व्यापार करें। उन्होंने कहा कि भले 20 प्रतिशत व्यापार कम हो, लेकिन सालिड कारोबार करें, ऐसा प्रण व्यापारियों को लेना होगा। रेट कम कर 30 दिन की भुगतान टर्म रखें, ताकि फ्राड करने वाले व्यापारी आसपास भी न भटक सकें। हाल की परिस्थति को भांपते हुए बहुत ही ठोक बजाकर ही व्यापार करने की जरुरत है।

बैठक में रघुकुल मार्केट के व्यापारी सुरेश अग्रवाल की बात सुनते ही व्यापार प्रगित संघ के सदस्य को उसके निवारण हेतु तुरंत लगा दिया गया। इसी तरह अन्य व्यापारियों की समस्याएं सुलझाने हेतु संघ के एक-एक सदस्य को जिम्मेदारी सौंपी गई।

बैठक में एक विशेष घटनाक्रम की ओर सदस्यों का ध्यान आकृष्ट करवाया गया। मार्केट में महिलाओं का खास गिरोह अपने पुरुष साथियों सहित सक्रिय है जो व्यापारियों को येन-केन प्रकारेण ‘हनी ट्रेप’ में फंसा कर ब्लैकमेल करते हैं और मोटी रकम एंठते हैं। ऐसे गिरोह की विशेष मोडस ऑपरेंडी हाल के दिनों में मार्केट में देखी जा रही है। कुछ महिलाएं ग्राहक के भेस में दुकानों पर माल खरीदने आती हैं, शुरूआत में थोड़ा बहुत खरीदती हैं, विश्वास अर्जित करती हैं, कई बार काफी सस्ते दामों पर खरीदने बहस-बाजी करती हैं और इसी क्रम में व्यापारी के साथ मोबाईल नंबरों के आदान-प्रदान के बाद हाय-हेलो के बहाने चैटिंग शुरू कर देती हैं। कई किस्सों में देखा गया है कि उक्त महिलाएं व्यापारी को चैटिंग के दौरान परोक्ष रूप से लुभाने की कोशिश करती हैं और कुछेक व्यापारी मानव-सहज स्वभाव के मर्यादा लांघ देते हैं। इसके बाद महिलाएं अपना असली रूप दिखाती हैं और व्यापारी को ब्लैकमेल करना शुरू कर देती हैं। मार्केट में इस प्रकार के किस्से सामने आ रहे हैं। कुछेक मामले पुलिस में भी गये हैं और बदनामी के डर से लेन-देन के बाद समाधान करके सलटाये गये हैं। इस मोडस ओपरेंडी के साथ एक गिरोह मार्केट क्षेत्र में कार्य कर रहा है। ऐेसे में व्यापारियों को चाहिये कि वे सतर्क रहें, जैन्यूइन ग्राहकों की पहचान करके ही व्यापार करें और विशेष रूप से गैर-महिलाओं के साथ चैटिंग आदि लफडों में पडऩे से बचें।

अगले पेज पर पढ़ें वीपीएस से कैसे जुड़ें और उसके फायदे क्या हैं?