VPS Bulletin : ‘पहले व्यापारी कहते थे पुलिस में शिकायत करेंगे, अब बोलते हैं वीपीएस में जाएंगे!’


व्यापार प्रगति संघ की रविवार को हुई बैठक में उपस्थित व्यापारी। बैठक में विशेष अतिथि के रूप में पधारे आगरा व्यापार मंडल एवं एक्मा आगरा क्लाथ मर्केंटाइल एसोसिएशन के अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश क्लॉथ मर्चेंट एसोसिएशन के महामंत्री टी एन अग्रवाल एवं अशोक गोयल का स्वागत किया गया। (लोकतेज फोटो)

  • उत्तर प्रदेश की मंडियों में बकाया वसूली में दिक्कत के लिये मदद का टी एन अग्रवाल का आश्वासन
  • कानपुर की भुगतान समस्या के लिए ज्ञान प्रकाश गुप्ता एवं उनकी टीम को जिम्मा सौंपा गया

(लोकतेज संवाददाता – धर्मेन्द्र मिश्रा)

सूरत। व्यापार प्रगति संघ, सूरत व्यापार एवं व्यापारी हित के लिए सदैव तत्पर है, यही कारण है कि आज संस्था के साथ  तकरीबन 25 हजार से अधिक व्यापारी जुड़ गये हैं। व्यापारी एवं व्यापार हित के लिए प्रत्येक रविवार को रामचौक स्थित शिवाजी गार्डन में सुबह 8 से 9 बजे तक एक मीटिंग आहूत की जाती है, जिसमें व्यापारी अपनी समस्या एवं सुझाव आदान-प्रदान करते हैं।

रविवार दिनांक 26/05/2019 को वीपीएस द्वारा आयोजित रविवारीय मीटिंग में बहुत बड़ी संख्या में व्यापारियों ने हिस्सा लिया। व्यापारियों ने अपनी पेमन्ट सम्बंधी शिकायतें तथा अपनी वीपीएस के सहयोग से वसूल हुई रकम की बातें शेयर की। बैठक में बड़ी संख्या में टेक्सटाइल के व्यापारियों ने अपनी समस्याएं मीटिंग स्थल पर बताई, जिन के निराकरण के लिए वहीं पंच मनोनीत हुये। पंचों को 1 हफ्ते में विभिन्न शिकायतों पर अपनी रिपोर्ट अगली बैठक में देनी है। इस बैठक में आगरा व्यापार मंडल एवं एक्मा आगरा क्लॉथ मर्केंटाइल एसोसिएशन के अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश क्लॉथ मर्चेंट एसोसिएशन के महामंत्री टी. एन. अग्रवाल भी उपस्थित थे।

 

वीपीएस के संस्थापक संजय जगनानी ने बताया कि वीपीएस बिना जाति-धर्म पूछे व्यापारियों का सहयोग पिछले तीन वर्ष से करती आ रही है। 125 वाट्स ग्रुप एवं 25 हजार व्यापारियों के सहयोग से अनेकों व्यापारी लाभान्वित हुए हैं। व्यापारी तथा व्यापार हित में सतत प्रयासरत रहने पूरे देश के व्यापारियों को व्यापार प्रगति संघ के बारे में मालूम हो गया है। उन्होंने कहा कि पहले व्यापारियों के यहां फंसे पेमेन्ट में निकलवाने के लिए व्यापारी कहते थे पुलिस में शिकायत करेंगे और अब बोलते हैं वीपीएस में जाएंगे! उन्होंने कहा कि व्यापार प्रगति संघ व्यापार को प्रभावित करने वाले चीटर व्यापारियों को एक्सपोज करने के लिए हर संभव प्रयास करेगा।

वीपीएस के अरविन्द गाडिया ने कहा कि व्यापारियों को अपने रुके हुए पेमेन्ट की वसूली के लिए तकादा रेगुलर जारी रखना चाहिए। नियमित रुपये की मांग करते रहने से भुगतान अवश्य आएगा। किसी भी हालात में व्यापारी से बातचीत करते हुए व्यापार हित की बात करते हुए रुपये की मांग जारी रखें।

आज की बैठक में आगरा व्यापार मंडल एवं एक्मा आगरा क्लाथ मर्केंटाइल एसोसिएशन के अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश क्लॉथ मर्चेंट एसोसिएशन के महामंत्री टी एन अग्रवाल एवं अशोक गोयल उपस्थित थे। मेहमानों का स्वागत क्रमशः वीपीएस के नरसिंह टेकरीवाल एवं सुरेन्द्र अग्रवाल ने किया। टी. एन. अग्रवाल ने इस अवसर पर व्यापार प्रगति संघ के द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने उत्तर प्रदेश में किसी भी मंडी में भुगतान रुकने पर हर प्रकार के सहयोग का आश्वासन दिया। उन्होंने अपने उद्बोधन में टेक्सटाइल व्यापारियों का संपूर्ण भारत का संगठन खड़ा करने पर जोर दिया और इसके लिए सूरत को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश का कपड़ा व्यवसाई पूरी तरीके से सूरत के व्यापारियों के साथ रहेगा।

आज व्यापार प्रगत संघ के तत्वावधान में कानपुर की भुगतान समस्या के लिए प्रभारी श्री ज्ञान प्रकाश गुप्ता और उनकी टीम को बनाया गया। व्यापार प्रगत संघ से ज्ञान प्रकाश गुप्ता और कानपुर की कपड़ा कमिटी के साथ मिलकर व्यापारियों की भुगतान समस्या का हल निकलने का प्रयास करेंगे। ज्ञान प्रकाश गुप्ता श्री जगन्नाथजी रथयात्रा प्रबंधक समितिके महामंत्री एवं अखिल भारतीय ओमर वैश्य महासभा, क्षेत्रीय समिति नगर इकाई, कानपुर के महामंत्री भी हैं।

 

व्यापारियों की प्रति क्रियाएं एवं सुझाव

नीचे सूरत के कुछ ऐसे व्यापारियों की प्रतिक्रियाएं दी गई हैं, जिनका भुगतान लंबे समय से बकाया था और वीपीएस के प्रयासों से उन्हें भुगतान प्राप्त करने में सफलता मिली।

एम-2 के व्यापारी  ने वीपीएस की साप्ताहिक मीटिंग में बताया कि विजयवाडा के एक व्यापारी के यहां 25 हजार रुपये पेमेन्ट बाकी था। पिछले कुछ दिनों के वीपीएस के पंच जीतुभाई के प्रयास से 15 हजार रुपये खाते में आ गये।

एसटीएम मार्केट के व्यापारी सुमित अग्रवाल ने बताया कि कोलकाता के एक व्यापारी के यहां पिछले एक-दो साल से 10 लाख रुपये बकाया था। वीपीएस के पंच नरेन्द्र साबू के अथक प्रयास से 81 हजार रुपये आ गये हैं और शेष रुपये का वकील के माध्यम से लिखान हो गया है। यानी अब रुपये आने की पूरी संभावना है।

मिलेनियम मार्केट के व्यापारी ने बताया कि रेशमवाला मार्केट में पेमेन्ट फंसा है। पंच महेश सवाणी के प्रयास से 10 हजार रुपये प्रति सप्ताह देने के लिए व्यापारी तैयार हो गया है।

अभिषेक मार्केट की हरिओम सिल्क मिल्स की ओर से बताया गया है कि वीपीएस के सहयोग से उनका जयपुर की एक पार्टी में १२ महीनों से अटका पेमेन्ट आ गया है। उन्हें वीपीएस के पंच हरिभाई का सहयोग रहा।

व्यापारी प्रशांत कसेरा ने बताया कि उनका सूरत की जगदम्बा मार्केट की पार्टी के यहां ६ महीने से पेमेन्ट बकाया था जो वीपीएस के हरिभाई की मदद से आ गया है।

राधाकृष्णा मार्केट के व्यापारी प्रवीणभाई ने बताया कि वर्किंग पार्टनर में मिलेनियम मार्केट में 20 लाख रुपये लगाकर दुकान चालू करायी था। दुकान की पूरी तरह देख रेख वही व्यापारी करता था, अब कह रहा है कि नुकसान की दोनों की जिम्मेदारी है। वीपीएस से दोनों पक्षों को सुनने के बाद निर्णय लेने की बात कही है। हालाकि पंच बाबूभाई इस मामले को देख रहे हैं।

आरआरटीएम के व्यापारी ने कहा कि कोलकाता के व्यापारी के यहां रुपये फंसे हैं। मांग करने पर कहता है कि नुकसान हो गया है। तीन-चार बार कोलकाता भी गया हूं, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। वीपीएस ने कोलकाता के व्यापारी के खिलाफ लीगल कार्रवाई करने को कहा।

आरआरटीएम के ही एक व्यापारी मदनलाल माहेश्वरी ने कहा कि कानपुर के व्यापारी के यहां 3-4 साल से पेमेन्ट अटका है। रुपये की मांग करने पर कहता है कि दूसरा माल दोगे तब पुराना रुपये दूंगा। अब दूसरे फर्म के नाम से व्यापार कर रहा है।

एसटीएम के वरुण सिंथेटिक्स के व्यापारी का पेमेन्ट कानपुर में एक व्यापारी के यहां फंसा है। इसी तरह कानपुर के व्यापारी के यहां फंसे अन्य व्यापारियों का पेमेन्ट संबंधी मामले पंच राजीव ओमर देख रहे हैं।

इस प्रकार देखा जा सकता है कि व्यापार प्रगति संघ के प्रयासों से सही मायनों में सूरत के व्यापारियों को लाभ हो रहा है और उनकी डूबती पूंजी फिर से वर्किंग कैपिटल बनकर व्यापार में लग रही है।


आपको VPS NEWS BULLETIN कैसा लगा? पसंद आए तो इसे वॉट्सएप, फेसबुक और ट्वीटर पर शेयर अवश् करें।


व्ययापार प्रगति संघ के सदस्य बनें। यदि आपके पास कोई सुझाव हैं तो अगली रविवारीय बैठक में अवश्य दें।


अपना अखबार लोकतेज नियमित मंगवाने हेतु 9714405155 पर संपर्क करें।