VPS News Bulletin : व्यापारियों के लिये व्यापार प्रगति संघ सबसे बड़ा ‘गूगल’ हो गया है!


Photo/Loktej

बकाया भुगतान की वसूली हेतु दबाव बनाने एवं धरना प्रदर्शन के लिये व्यापारी को स्वयं आगे रहना होगा

(लोकतेज संवाददाता – धर्मेन्द्र मिश्रा)

सूरत। व्यापार प्रगति संघ, सूरत व्यापार एवं व्यापारी हित के लिए सदैव तत्पर है, यही कारण है कि आज संस्था के साथ  तकरीबन 25 हजार व्यापारी जुड़ गये हैं। व्यापारी एवं व्यापार हित के लिए प्रत्येक रविवार को रामचौक स्थित शिवाजी गार्डन में सुबह 8 से 9 बजे तक एक मीटिंग आहूत की जाती है, जिसमें व्यापारी अपनी समस्या एवं सुझाव आदान प्रदान करते हैं। रविवार, 31 मार्च, 2019 को भी साप्ताहिक बैठक संपन्न हूई जिसमें संघ के पदाधिकारियों के ‌अलावा पंच, स्वयंसेवक और पीड़ित व्यापारी उपस्थित रहे।

वीपीएस के संस्थापक संजय जगनानी ने कहा कि फंसे हुए रुपये निकालने के लिए व्यापारी को पूरे मन से सामने वाले व्यापारी पर दबाव बनाना चाहिए। यही नहीं बल्कि व्यापारी के दुकान के सामने चादर बिछाकर धरना प्रदर्शन करने में भी स्वयं को ही आगे रहना होगा। जिस जिसने भी चादर बिछाया उसका पैसा निकल गया अथवा निकल रहा है। उन्होंने व्यापारियों को बल देते हुए कहा कि व्यापारी को वाट्सग्रुप-फेसबुक पर फोटो वायरल करने, परिवार के साथ व्यापारी के घर जाकर उसके परिवार के सामने रुपये की मांग, बार-बार पंच के पास जाना, वकील द्वारा नोटिस भेजने सहित उपायों पर अमल करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि रुपये की वसूली करने व्यापारी के घर-दुकान पर जाने से पूर्व पुलिस को सूचित जरुर करें।

व्यापारियों की प्रति क्रियाएं एवं सुझाव

नीचे सूरत के कुछ ऐसे व्यापारियों की प्रतिक्रियाएं दी गई हैं, जिनका भुगतान लंबे अरसे से बकाया था और वीपीएस के प्रयासों से उन्हें भुगतान प्राप्त करने में सफलता मिली।

मिलेनियम मार्केट-2 के व्यापारी ओम प्रकाश अग्रवाल ने कहा कि जिन-जिन व्यापारियों के रुपये निकल गये हैं अथवा निकल रहें हैं, वह व्यापारी पंच को जरुर अवगत कराएं, ताकि उनकी तरकीब अन्य व्यापारी भी आजमा सकें।

प्रदीप क्याल ने बताया कि व्यापार प्रगति संघ के सुझाव एवं सहयोग व्यापारी के पास रुका रुपया आ गया।

व्यापारी अमित तापडिय़ा ने कहा कि पांच साल से एक व्यापारी के पास रुपये अटका था, जिसका कोई सुराग नहीं लग रहा था। परंतु व्यापार प्रगति संघ के विविध ग्रुप में व्यापारी के नाम डालने कर उसका पता चल गया और रुपये भी आना शुरु हो गया। व्यापारियों के लिए व्यापार प्रगति संघ सबसे बड़ा गूगल हो गया है।

कोहिनूर मार्केट के व्यापारी संदीप गुप्ता ने बताया कि संघ के सुझाव से व्यापारी को वकील के माध्यम से नोटिस पहुंचाने मात्र से रुपये निकल गये।

गुडलक मार्केट के व्यापारी सुरेशभाई ने बताया कि असम एवं त्रिपुरा के व्यापारियों के यहां मेरा 8 साल से रुपया अटका था। लेकिन बार-बार के प्रयास से अब पैसे आने लगे हैं। अभी हाल ही में नेफ्ट के माध्यम से पेमेन्ट भेजा है।

तिरुपति मार्केट के व्यापारी बाबू अग्रवाल ने बताया कि अजमेर में व्यापारी के पास रुपये फंसा है। पहले तो फोन नहीं उठता था परंतु अब फोन भी उठाता है और हाल में 50 हजार का पेमेन्ट दिया है। ऐसे में क्या इस व्यापारी के साथ व्यापार करना चाहिए? संघ ने अपना सुझाव ना में दिया।

एनटीएम मार्केट के व्यापारी दीपक अग्रवाल ने बताया कि कोल्हापुर के व्यापारी के पास रुपया फंसा है, लेकिन एजेंट सूरत में है। संघ ने एजेंट पर दबाव बनाने का सुझाव दिया।

राधाकृष्‍णा मार्केट के व्यापारी राहुल अग्रवाल ने बताया कि  एर्नाकुलम-केरल में फरबरी 2017 से उनका अटका हुआ पेमेन्ट आ गया है। उन्होंने वीपीएस की सलाह अनुसार एडवोकेट के माध्यम से लीगल नोटिस भेजा था। उन्होंने वीपीएस के पंचों का विशेष आभार माना है।

श्री कुबेरजी टेक्सटाईल मार्केट के आर सुभाष एंड कंपनी के प्रतिनिधि ने बताया कि उनका उत्तरप्रदेश के सुलतानपुर में भुगतान रूका हुआ था। वीपीएस के पंच ओमप्रकाश अग्रवाल के मार्गदर्शन में उनका पेमेन्ट क्लियर हो गया।

मिलेनियम मार्केट के निपुन शाह ने बताया कि उनका दिल्ली के व्यापारी के यहां मार्च 2017 से अटका पेमेन्ट वीपीएस के एडवोकेट के मारफत नोटिस भेजने के बाद आ गया। उन्होंने सभी व्यापारियों से वीपीएस से जुड़ने और हर रविवार शिवाजी पार्क की बैठक में आने का आह्वान किया है।

अशोक टावर के उत्तम सारीज़ का एक वर्ष पुराना पेमेन्ट सूरत में ही अटका हुआ था, जो वीपीएस के पंच हरीभाई के सहयोग से आ गया है।

सलाबतपुरा के कपड़ा व्यापारी गुलाटी फैशन के अनुसार वीपीएस का स्क्रीन शॉट अमृतसर के बकायेदार व्यापारी को भेजने मात्र से उनका बकाया क्लियर हो गया।

डीएमडी लोजिस्टीक्स के रांगी फेब्रिक्स के अनुसार उनका एक मिल से ग्रे माल लेना शेष था। वीपीएस पंच कोकीभाई की मदद से उनका माल उन्हें मिल गया।

इस प्रकार देखा जा सकता है कि व्यापार प्रगति संघ के प्रयासों से सही मायनों में सूरत के व्यापारियों को लाभ हो रहा है और उनकी डूबती पूंजी फिर से वर्किंग कैपिटल बनकर व्यापार में लग रही है।


आपको VPS NEWS BULLETIN कैसा लगा? पसंद आए तो इसे वॉट्सएप, फेसबुक और ट्वीटर पर शेयर अवश्‍य करें।

व्ययापार प्रगति संघ के सदस्य बनें। यदि आपके पास कोई सुझाव हैं तो अगली रविवारीय बैठक में अवश्य दें।

VPS News Bulletin के पिछले अंकों को पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें।


अपना अखबार लोकतेज नियमित मंगवाने हेतु 9714405155 पर संपर्क करें।