स्मृति ईरानी ने सोनल बियानी सहित40 महिलाओ को सम्मानित किया


'न्यु इन्डिया वुमन कॉन्कलेव' स्मृति ईरानी की अध्यक्षता में वीर नर्मद साउथ गुजरात यूनिवर्सिटी के कन्वेंशन हॉल में आयोजित हुई।
Photo/Loktej

वीर नर्मद यूनिवर्सिटी में न्यू इंडिया वुमेन्स कान्क्लेव का उदघाटन

Photo/Loktej

सूरत। सूरत कि निम्या संस्था द्वारा 8 मार्च विश्व महिला दिवस के पूर्व ‘न्यु इन्डिया वुमन कॉन्कलेव’ केंद्रीय टेक्सटाइल मंत्री स्मृति ईरानी की अध्यक्षता में वीर नर्मद साउथ गुजरात यूनिवर्सिटी के कन्वेंशन हॉल में आयोजित हुई। दिनांक 6 मार्च को शाम 6 बजे कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने वीर नर्मद यूनिवर्सिटी में न्यू इंडिया वुमेन्स कान्क्लेव का उदघाटन किया। इस अवसर पर मंत्री ने कहा कि जन्म से लेकर मृत्यु तक महिलाओं में आकाश को छूने की इच्छा रहती है। जिसे प्राप्त करने के लिए नारी अथक परिश्रम की क्षमता रखती हैं। महिला का सच्चे तौर पर उत्थान और सशक्तिकरण हो इसकी जवाबदारी पति और पत्नी दोनों की रहती है। समाज को सशक्त, मजबूत और संस्कारयुक्त बनाने के लिए महिला और पुरुष दोनों को समान बनकर कार्य करना जरूरी है ऐसा उन्होंने अपना विचार व्यक्त किया। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का देश के गरीब और मध्यम परिवार के 15 करोड़ लोगों ने लाभ लिया है जिसमें 70 फीसदी से अधिक महिलाएं हैं। यह योजना महिलाओं में रोजगार का सृजन करने के लिए लाभदाई है। केंद्रीय टेक्सटाइल मंत्री स्मृति ईरानी के हाथों सूरत की 40 महिलाओ को अलग अलग क्षेत्रो में उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित किया गया। लोगो के लिए प्रेरणा स्त्रोत बन चुकी इन महिलाओं में कपड़ा कारोबार में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली फोस्टा की महिला सदस्य सोनल बियानी ,शादी विवाह में देश भर में फोटोग्राफी में नाम कर चुकी पूजा केडिया,ट्रायथलॉन कम्पीटीशन में स्वर्ण पदक विजेता पूजा चौरसिया,विश्व की कठिन मैराथन दौड़ विजेता पूजा नाकरानी सहित 40 महिलाओ को सम्मानित किया गया। सूरत कपड़ा मार्केट की संस्था फोस्टा में दो महिला सदस्य है। जिसमे फोस्टा के पूर्व डायरेक्टर महेश बियानी की पुत्रवधू सोनल प्रतीक बियानी व्यापार के साथ सामाजिक कार्यो में भी रुचि रखती है। चेम्बर ऑफ कॉमर्स की सदस्य सोनल बियानी कॉपोरेट बैंकिंग फाइनेंस मे भी महत्त्वपूर्ण योगदान दे रही है।

इस अवसर पर उपस्थित महिलाओं ने मंत्री के साथ महिला सशक्तिकरण के संबंध में प्रश्नोत्तरी की जिसका मंत्री ने संतोषप्रद प्रत्युत्तर दिया। इस अवसर पर सांसद दर्शना जरदोष ने महिला सशक्तिकरण के लिए केंद्र और राज्य सरकार की योजनाएं जो अमल में हैं उनकी जानकारी दी और कहा कि महिलाएं भी पुरुषों के समान बन सकती हैं। बहनों को सामाजिक, शैक्षणिक और आर्थिक रूप से सशक्त हों, महिलाएं अपना हक और अधिकार के लिए जागृत हों यह जरूरी है। इस अवसर पर मंत्री के हाथों महिलाओं द्वारा निर्मित हुए मेनिफेस्टो का अनावरण किया गया। इस अवसर पर विधायिका झंखना पटेल, पूजा नार्डिकर, पूर्णिमाबेन व बड़ी संख्या में कर्मचारियों की उपस्थिति रही।

—-