सूरत : DNA Test में झूठ पकड़े जाने के डर से नवजात बदलने की शिकायत करने वाले माता-पिता फरार


(PC : sandesh.com)

सूरत। शहर के पांडेसरा क्षेत्र में रहने वाले राजेश पटेल और नैनाबेन पटेल ने विगत ९ मई को सूरत सिविल अस्पताल के कर्मचारियों पर उनके नवजात बालक को बदल देने का आरोप लगाया था। एक दिन के नवजात को सिविल अस्पताल में ईलाज के लिये लाया गया था। माता-पिता की शिकायत थी कि उनको बेटा हुआ था लेकिन अस्पताल के कर्मचारियों ने उन्हें बेटी थमा दी। इसके चलते अस्पताल में हंगामा मच गया था और पुलिस को बुलाने की नौबत आई थी। अब इस मामले में नया मोड़ आया है। बच्चा बदलने की शिकायत करने वाले माता-पिता ही अस्पताल में नवजात को छोड़कर फरार हो गये हैं।

बता दें ‌कि नवजात के बदलने की शिकायत के बाद सिविल अस्पताल के वरिष्ठ प्रबंधकों ने फैसला लिया था कि नवजात का डीएनए टेस्ट किया जाए। उसी से बच्चे के माता‌-पिता की सही जानकारी मिल पायेगी। लेकिन इससे पहले ही जांच रिपोर्ट आती, माता-पिता फरार हो गये हैं। अब पुलिस में शिकायत की गई है और फरार माता-पिता को खोजा जा रहा है।

इसी बीच नवजात बच्चे की देखभाग सिविल अस्पताल के कर्मचारी कर रहे हैं। बच्ची स्वस्थ है। मामला यह था कि निजी अस्पताल के डिस्चार्ज पत्र में भूलवश बालिका के स्थान पर बालक लिख दिया गया था और इसी कारण यह गलतफहमी हुई। माता-पिता सिविल में बालिका के ईलाज के लिये ही आये थे, लेकिन निजी अस्पताल के ‌डिस्जार्च पत्र की गलती को हथियार बनाकर उन्होंने बालिका के स्थान पर बालक होने का दावा करके बखेड़ा खड़ा कर दिया। जब डीएनए जांच की बात आई तो झूठ पकड़े जाने के डर से वे अपनी बालिका को अस्पताल में ही छोड़कर फरार हो गये हैं।