सूरत खटोदरा पुलिस चौकी में चोरी के आरोपी को पीटकर पुलिस बनी आरोपी


(Photo Credit : youtube.com)

सूरत पुलिस एक बार फिर विवादों में आ गई है। सूरत के खटोदरा पुलिस स्टेशन के पीआई, पीएसआई सहित आठ पुलिसकर्मियों ने चोरी के अपराध में एक आरोपी को पकड़ लिया और 48 घंटे तक उसे लॉकअप में रखा। उसके बाद, आरोपी को खूब मारा जिससे उसका स्वास्थ्य खराब हो गया, जिसके परिणामस्वरूप आरोपी को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में ले जाया गया।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस नियंत्रण से एक संदेश दिया गया है कि खटोदरा पुलिस स्टेशन के पीआई सहित आठ पुलिसकर्मीयों ने चोरी के आरोपी को बूरी तरह मारा। जिसके लिए उनके खिलाफ गुनाह दर्ज किया गया। वे लोग निजी कपड़ों में पुलिस हिरासत से भाग गए। इस पर नजर रखें और इसकी जानकारी दें इसकी कंट्रोल रूम ने जानकारी दी।

सूत्रों के मुताबिक, खटोदरा पुलिस ने चोरी के लिए ओम प्रकाश को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद आरोपी को 48 घंटे तक हवालात में बंद रखा गया। ओम प्रकाश पांडे को पीआई,डी-स्टाफ के पीएसआई सहित आठ पुलिसकर्मियों ने डी-स्टाफ ऑफिस में पीटा था। जिसकी वजह से ओम प्रकाश की तबियत खराब हो गई जिसके कारण उसे इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। सिविल अस्पताल से ओम प्रकाश को एक निजी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया।

पूरे मामले में पुलिस उच्च अधिकारियों को जानकारी मिलने के बाद पीआई, पीएसआई सहित आठ पुलिसकर्मियों के गुनाह दर्ज कयि गया है। पूरे मामले की जानकारी मिलने के बाद सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा सुबह करीब 4 बजे खटोदरा पुलिस थाने पहुंचे और पुरे मामले में जांच की। अपराध होने पर सभी पुलिसकर्मी पुलिस की गिरफ्त से निजी कपड़ों में भाग निकले। सूत्रों के मुताबिक, 3 पुलिस कर्मीयों ने पुलिस आरोपियों को पकड़ने की कोशिश की थी। हालांकि, आरोपी पुलिस बल से भागने में सफल रहे, और इस झगड़े के दौरान घायल पुलिसकर्मी को इलाज के लिए अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया। 

पूरा मामला खटोदरा थाने के पीआई एम बी खिलेरी, पीएसआई सी पी चौधरी, हरीश, कनक, परेश, आशीष, कल्पेश और जिलु के खिलाफ आईपीसी की धारा 330, 324, 342, 348, 34 और जीपी एक्ट 135 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

घटना के हाद, आरोपी पीआई एम बी खिलेरी की जगह पर पीआई डी एच गोर को बदल दिया गया है। घटना के बाद आरोपी पीआई और पीएसआई को निलंबित कर दिया गया है।