सूरत की यमदूतनूमा BRTS बसों का कोई कुछ करो! : टक्कर से राजस्थानी व्यापारी की पत्नी की मौत


सूरत में जब से बीआरटीएस बस सेवा की शुरूआत हुई है, इन तेज रफ्तार दौड़ती यमदूत नूमा बसों ने कइयों की जान ले ली है। निर्दोष नगरजनों इसके शिकार होते हैं, जानलेवा चोटें आती हैं और टक्कर-दुर्घटना के बाद चालक रफूचक्कर हो जाते हैं।

मंगलवार को भी एक ऐसा ही हादसा हुआ जिसमें परवत पाटिया से भाठेना जा रही बीआरटीएस बस की चपेट में एक कपड़ा व्यापारी की पत्नी आ गई और गृहिणी ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया। इस हादसे के बाद एक बार फिर स्थानीय लोग रोष प्रकट कर रहे हैं।

मूल राजस्थान के कन्हैयालाल शर्मा सूरत में कपड़ा व्यवसाय करते हैं और डुंभाल स्थित अक्षर टाऊनशीप में रहते हैं। कन्हैयालाल की पत्नी कुसुमबेन बीआरटीएस सड़क क्रोस कर रही थीं तभी अचानक तेज रफ्तार बस ने उन्हें अपनी चपेट में ले लिया। उन्हें गंभीर चोटें आईं। घटना के बाद लोग इकठ्ठा हो गये और 108 एंब्यूलंस को बुलाया गया। एंब्यूलंस के आने पर उसमें सवार चिकित्सकों की टीम ने कुसुमबेन को मृत घोषित किया। कुसुमबेन की तीन संतानें हैं और पूरा परिवार गमगीन है। दुर्घटना के बाद बस ड्राईवर घटना स्थल से फरार हो गया। इस मामले में पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

जितनी संख्या में बीआरटीएस बसों की चपेट में आने से सूरत के नागरिकों की जानें जा रही हैं, अब समय आ गया है कि इस समस्या पर उचित ध्यान देकर घटनाओं के संभावित कारणों का पता लगाकर स्थायी समाधान की दिशा में बढ़ा जाए।