सूरत में यह युवक एक फोन पर मरीजों को अस्पताल पहुंचाने की निःशुल्क सेवा देता है


khabarchhe.com

सूरत शहर देश-दुनिया में जिस प्रकार हीरों और टेक्सटाईल उद्योग के लिये जाना जाता है, उसी प्रकार समाज सेवा के लिये भी प्रख्यात है। शहर में 108 बस सेवा निःशुल्क सेवा प्रदान कर रही है। वहीं, सूरत एक युवक ऐसा भी है जो अपनी इको गाड़ी में मरीज को निःशुल्क अस्पताल पहुंचाने की सेवा करता है।

सूरत शहर के वराछा क्षेत्र के पूणा गांव में रहने वाला बीपीन हिरपरा नामक युवक ‘मानव सेवा ही प्रभु सेवा है’ के सूत्र को सार्थक कर रहा है। वह रात १० से सुबह ५ बजे तक अपनी इको गाड़ी में बीमार लोगों को अस्पताल पहुंचाने का काम करता है। शहर के किसी भी कोने से जब कभी कोई मदद के लिये फोन करता है, हीरपरा तुरंत अपनी गाड़ी लेकर निकल पड़ता है और दिये गये पते पर पहुंच कर मरीज को नजदीकी अस्पताल पहुंचाने का काम करता है। वह यह सेवा पिछले ३ वर्ष से लगातार कर रहा है। अब तक वह ८० मरीजों को चिकित्सा के लिये अस्पताल पहुंचा चुका है।

बीपीन हीरपरा के कहे अनुसार उनके बहनोई को एक बार आपात स्थिति में असपताल जाना था। हमारे पास गाड़ी थी, लेकिन वह खरब थी। तब हम दूसरे की गाड़ी में अस्पताल पहुंचे। उसके बाद मुझे विचार आया कि मुझे भी लोगों की सेवा के लिये यह कार्य करना चाहिये। तब मैं इस सेवा कार्य में जुटा हुआ हूं। बीमार मरीजों के उपरांत महिलाओं की डिलीवरी के लिये भी लोग मेरी मदद लेते हैं। मैं चाहता हूं कि लोग अधिक से अधिक संख्या में जरूरत पड़ने पर मुझे 9825590640 पर संपर्क करें।