सूरत एयरपोर्ट पर CISF सुरक्षा को मिली मंजूरी, लेकिन अमलीकरण में समय लगेगा


(लोकतेज फोटो)

सूरत एयरपोर्ट एक्शन कमिटी के संजय इझावा ने घोषणा का स्वागत किया

सूरत। देश के अन्य एयरपोर्ट की तुलना में यात्रियों की संख्या में तेजी से आगे बढ़ रहे सूरत एयरपोर्ट को केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) की सुरक्षा प्रदान किये जाने की सूरतवासियों की मांग का सरकार की ओर से सकारात्मक प्रतिभाव मिला है। सूरत एयरपोर्ट निर्देशक की ओर से बयान में कहा गया है कि सूरत एयरपोर्ट पर CISF सुरक्षा मुहैया कराने की मंजूरी सक्षम प्राधिकारी की ओर से प्रदान की जा चुकी है। इस संबंध में प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है, लेकिन इसके वास्तविक अमलीकरण में फिलहाल कुछ समय लगेगा।

 

बता दें कि सूरत एयरपोर्ट एक्शन कमिटी (साक) काफी लंबे अरसे से सूरत एयरपोर्ट पर CISF सुरक्षा प्रदान करने की मांग केंद्र सरकार व संबंधित विभाग से कर रही थी। लेकिन चुंकि सूरत एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया और गुजरात सरकार के बीच एक समझौता है जिसमें सुरक्षा की तमाम जिम्मेदारी गुजरात सरकार पुलिस के माध्यम से देख रही है। यह समझौता एक अड़चन बना हुआ था। साक ने विगत दिनों गृह मंत्रालय को इस बारे में पत्र लिखकर सूरत की आवाज से अवगत कराया था। जिसके जवाब में साक को गृहमंत्री राजनाथ सिंह की ओर से प्रत्युत्तर मिला और कहा गया कि मामले को डायरेक्टोरेट जनरल सीआईएसएफ राकेश आस्थाना को रेफर कर दिया गया है।

बता दें कि राकेश आस्थाना सूरत के पुलिस आयुक्त रह चुके हैं और सूरत की एयरपोर्ट संबंधी आवश्यकताओं व सूरतवासियों की मांगों से भलिभांति परिचित हैं। उन्होंने मामले को गंभीरता से लेते हुए आवश्यक सकारात्मक कदम उठाये हैं।

गौरतलब है कि जिस गति से सूरत से हवाई सेवाओं की संख्या बढ़ रही है, यहां पर वीवीआईपी लोगों की आवाजाही बढ़ रही है, सूरत से डोमेस्टीक के बाद इंटरनेशन फ्लाईट शुरू हो गई है, इन तमाम मुददों को देखते हुए पुलिस की सुरक्षा नाकाफी प्रतीत होती है। इतना ही नहीं देश में ऐसे कई एयरपोर्ट हैं जहां सूरत की तुलना में कम फ्लाईट्स चलती हैं और यात्रियों की संख्या भी अपेक्षाकृत कम है, लेकिन उन स्थानों पर भी CISF तैनात है। अन्य राज्यों की बात छोड़ दें तो भी गुजरात के ही राजकोट, जामनगर, पोरबंदर और दीव जैसे छोटे घरेलू उपयोग के एयरपोर्टों पर भी CISF की सुरक्षा मुहैया कराई गई है।

सूरत एयरपोर्ट एक्शन कमिटी के संजय इझावा ने CISF की तैनाती को मिली ऑपचारिक मंजूरी का स्वागत किया है। सूरत के मनोज सिंगापुरी के अनुसार CISF की तैनाती सूरत एयरपोर्ट के लिये गेमचैंजर साबित होगी। राजेश मोदी ने इसके लिये सभी संबंधित विभागों एवं अधिकारियों का आभार माना है और कहा है कि सूरत एयरपोर्ट पर सुरक्षा बढ़ेगी जो कुल मिलाकर हवाई सेवा के विकास में मिल का पत्थर साबित होगी।