5000 मरीज सूरत में करा रहे हैं मुंह के कैंसर का इलाज


(Photo Credit : patrika.com)

विश्व तंबाकू निषेध दिवस हर साल 31 मई को दुनिया भर में मनाया जाता है। सूरत में मुंह के कैंसर के 5000 मरीजों के साथ गुजरात में 3 लाख मरीज इलाज करा रहे हैं।

नई सिविल अस्पताल के दंत विभाग के प्रमुख गुणवंतभाई परमार ने कहा कि गुजरात में लगभग 8 लाख मरीज मुंह के कैंसर से पीड़ित होंगे और सूरत शहर में 5000 मरीज मुंह के कैंसर का इलाज करा रहे हैं।

हालांकि, सूरत सिविल में पिछले ढाई साल में मुंह के कैंसर के 342 मरीज इलाज के लिए आए हैं। ढाई वर्ष में शुरुआती दौर से गुज़र रहे 760 मरीजों को परामर्श देकर गुटखा तंबाकु छुड़ाकर कैंसर से मुक्त किया गया था।

इसके अलावा, उन्होंने कहा कि कैंसर से पीड़ित रोगियों के मुंह की तीन उंगलियां सीधी नहीं जाती और मुंह कम खुलता है, इतान ही नहीं भोजन करते समय मुंह से बदबू आने लगती है। गाल के अंदर का हिस्सा जकड़ जाता है। यदि रोगी पहले चरण में उपचार के लिए आता है, तो रोगी 100% बेहतर हो सकता है यदि रोगी लंबे समय के बाद इलाज के लिए जाता है, कभी-कभी कैंसर फैल जाता है, जिससे रोगी के जीवन का जोखिम भी बढ़ जाता है।