दुश्कर्म मामले में जेल भोग रहे नारायण साई को जेल में कार्य सोंपा गया, तीन माह नहीं मिलेगी पगार


(Photo Credit : ndtv.com)

स्वयं को श्री कृष्ण का अवतार तथा लड़कीयों को पिछले जन्म की गोपियां कहकर मोहलीला रचकर धर्म की आड़ में पाखंडलीला करने वाले नारायण सांई को आजीवन कैद की सज़ा हुई है। लाजपोर जेल में बंद सांई को गुरुवार को काम काज सौंपा गया। जिसमें जेल प्रशासन ने कैदी संख्या 1750 नारायण सांई को घांस कांटने का कार्य सौंपा है।

प्रारंभिक स्तर पर यह कार्य सौंपा गया है तथा नया चेहरा होने के कारण उनको तीन महीना कोई पगार नहीं मिलेगी। जिसके बाद रोज़ 70 रुपये प्रति दिन मिलेंगे। जोधपुर जेल में बंद बलात्कारी पिता के नक्शे कदम पर अग्रसर नारायण सांई को सूरत की लाजपोर जेल में आजीवन कारावास मिला है। पिछले सप्ताह ऐडिशनल सेशन कोर्ट ने नारायण सांई के बलात्कारी होने पर मोहर लगा उनके साथ कूकर्मों में शामिल हनुमान, गंगा तथा जमना को भी 10-10 वर्ष की सख्त सज़ा सुनाई है।

आखिर एक सप्ताह बाद गुरुवार को नारायण सांई को जेल के बगीचे में से सूखा कचरा उठाने का तथा घांस काटने का कार्य सोंपा गया। अपने आश्रम में सेवा के रूप में बाग-बगीचा साफ करवाने वाला नारायण अब स्वयं जेल के बगीचे में 3 महीने तक सरकारी सेवा के तौर पर घांस काटेगा।