नर्मदा नदी के पट में सड़क बनाने के मामले में बोले सवजी धोड़किया


(PC : scoopwhoop.com)

रिसोर्ट जैसा कुछ है ही नहीं, हरियाली और क्रिकेट का मैदान विकसित की है!

प्रशासन जो कहेगा मानेंगे

गुजरात में पानी की किल्लत के चलते कई गांवों में लोग पेयजल के लिये तरस रहे हैं। वहीं भरूच जिले के झाडेश्वर के पास नर्मदा नदी कि किनारे बनाये गये रिसोर्ट के मालिकों ने रिसोर्ट तक पहुंचने के लिये सीआरज़ेड की किसी भी प्रकार की मंजूरी के बगैर नदी के पड़ में सकड़ बना डाली। इस सड़क के कारण नर्मदा नदी के पानी में अवरोध पैदा हो रहा है। इससे आसपास के गांवों के लोगों में रोष व्याप्त है, क्योंकि पानी की किल्लत के कारण नर्मदा नदी सूख सी गई है। वहीं दूसरी ओर नर्मदा में जितना पानी शेष है वह भी निजी रिसोर्ट के मालिकों द्वारा रिसोर्ट में जाने के लिये सड़क बनाने के लिये अनुमानतः एक हजार रेत भरी प्लास्टिक की थैलियों से रोका जा रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि इस रिसोर्ट के मालिक सवजी धोड़किया हैँ।

घटना की जानकारी मिलने पर मामलतदार घटना स्थल पर पहुंचे और जांच की। मामलतदार पी डी पटेल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि इस सड़कनूमा अवरोध को दूर किया जायेगा।

नर्मदा नदी के पट में रिसोर्ट के एप्रोच रोड़ के लिये डाले गये रेल से भरे कट्टे

इस पूरे घटनाक्रम के विषय में सवजी धोड़किया ने मीडिया से बातचीत में बताया कि मैं सही हूं या गलत ऐसा कोई बयान नहीं देता। प्रशासन जो बात कहेगा उसे मैं स्वीकार कर लूंगा और यदि मेरी भूल होगी तो उसका स्वीकार कर लूंगा। नदी को कहीं से कोई अवरोध नहीं हो रहा। नदी हम साफ करते हैं, गणपित का जो कचरा उसमें जमा होता है उसे हम साफ करते हैं। वहां मीठा पानी नहीं है, समुद्र का पानी उसमें मिल जाता है। मीठा पानी अंदर नहीं आता। नदी वैसे भी भर चुकी हैं। समस्याएं ये सब हैं, सड़क की कोई समस्या है ही नहीं और वहां सड़क तो है ही नहीं।

सवजी धोड़किया ने आगे कहा कि कार्रवाई इसलिये नहीं हो सकती क्योंकि किसी के अहित का कोई काम नहीं किया है। हमने वहां दस लाख पौधे लगाये हैं, वहां २०० गायों का पोषण हो रहा है। वहां हम रासायनिक खाद का उपयोग नहीं करते। ओर्गेनिक सब्जियां वहां उगाते हैं। विकेन्ड में हम वहां जाते हैं, हमारा स्टाफ जाता है। और वहां रिसोर्ट जैसा कुछ नहीं, सिर्फ हरियाली विकसित की है, क्रिकेट का मैदान बनाया है। दिखने में वो रिसोर्ट लगता है, बाकी कुछ है ही नहीं।