ब्रेन-डेड मीत ने दिया चार व्यक्तियों को जीवनदान


ब्रेनडेड मीत के अंगदान का निर्णय परिवार के सदस्यों ने लिया, जिससे अन्य चार लोगों के नया जीवन मिला।
Photo/Twitter

सूरत। कक्षा 10 बोर्ड परीक्षा की तैयारी कर रहा छात्र पिता के साथ जेेरोक्स कराने गया था। इसी बीच अचानक ट्रक चालक ने बाईक को टक्कर मार दी। इस घटना में मीत गंभीर रुप से घायल हो गया। जिसे उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के दौरान चिकित्सकों ने मीत को ब्रेनडेड घोषित दिये। ब्रेनडेड मीत के अंगदान का निर्णय परिवार के सदस्यों ने लिया, जिससे अन्य चार लोगों के नया जीवन मिला।

वलसाड जिले में सरीगाम के पास दहेली गांव निवासी 16 वर्षीय मीत भरत पटेल कक्षा 10 में अभ्यास करता था। गत 26 फरवरी को बोर्ड परीक्षा की तैयारी हेतु पिता भरतभाई के साथ बाईक पर जेरोक्स कराने के लिए गया था। तभी अचानक ट्रक ने भरतभाई की बाईक को टक्कर मारने से हुई दुर्घटना में मीत को गंभीर चोट आयी थी। वापी की रेईनबो होस्पिटल में प्राथमिक चिकित्सा के बाद अधिक चिकित्सा के लिए मीत को सूरत महावीर अस्पताल में लाया गया।

28 फरवरी को न्युरोसर्जन हसमुख सोजित्रा ने मीत को ब्रेनडेड घोषित किया। अस्पताल के चिकित्सक एवं डोनेट लाईफ संस्था के अध्यक्ष निलेश मांडलेवाला के समझाने पर परिवार के सदस्य मीत के अंगदान को तैयार हुए। दान में मिली किडनी अहमदाबाद की रतनबेन वाघेला उम्र 36 तथा दूसरी किडनी भरूच के राजेन्द्रसिंह सयानीया उम्र 66 को डोनेट की गयी। जबकि अहमदाबाद के अल्पेश दिनेशचंद्र भलाणी उम्र 45 को लीवर ट्रान्सप्लान्ट किया गया तथा स्वादुपिंड मांगरोल के पोपटभाई ओडेदरा उम्र 39 में ट्रान्सप्लान्ट हुयी। समग्र दक्षिण गुजरात से अभी तक डोनेट लाईफ द्वारा 285 किडनी, 118 लीवर, 7 पेन्क्रीयास, 21 हृदय, 234 चक्षु दान करके 662 व्यक्तियों को नया जीवन दिया।