सूरत : अस्पताल में दर्द की शिकायत करने पर चिकित्सक ने ही पीड़ित प्रसूता पर कर दिया हमला, जानें क्या था मामला


सिविल अस्पताल में महिला चिकित्सक ने प्रसव के बाद प्रसूता पर सर्जिकल साधन से हमला कर कान फाड़ दिया जिससे भारी हंगामा हुआ।
(Photo Credit : Pixabay.com)

पीड़ित महिला को तमाचे जड़कर सर्जिकल साधन से कान फाड़ दिया, हंगामा होने पर चिकित्सक ने मांगी माफी

सूरत। सिविल अस्पताल में महिला चिकित्सक ने प्रसव के बाद प्रसूता पर सर्जिकल साधन से हमला कर कान फाड़ देने का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। इस घटना के बाद अस्पताल में भारी हंगामा हो गया।

शुक्रवार की सुबह हुई इस घटना के बाद लोगों ने 100 नंबर डायल कर पुलिस से शिकायत की। फिलहाल प्रसूता नवजात बच्चे के साथ एच-1 वॉर्ड में भर्ती है।

इस पूरे प्रकरण की प्राप्त जानकारी के अनुसार रूचि नितेश तिवारी (पीडि़ता) ने कहा कि दो महीने पहले ही वह उत्तर प्रदेश से सूरत स्थित भेस्तान आवास में रहनेवाले पति के पास आई थी। उसके बाद उनकी प्रेगन्न्सी के सभी उपचार सूरत सिविल अस्पताल के गायनेक विभाग में चल रहे थे। 21 फरवरी को वह गायनेक वॉर्ड में भर्ती हुई थी। सुबह लगभग 9 बजे के आसपास उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया। नॉर्मल प्रसव के बाद भी चिकित्सक ने 2 टांके लगाए थे। उसके बाद माता-बालक को वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया। वॉर्ड में आने के कुछ मिनटों के बाद उन्हें गुप्त भाग में दर्द शुरु हुआ। इस संबंध में उन्होंने वॉर्ड की परिचारिका को सूचित किया। जिसके कुछ मिनटों के बाद वॉर्ड के स्टाफ द्वारा उन्हें फिर आपरेशन थियेटर में ले गया। जहां गायनेक चिकित्सक ने कुछ भी पूछे बिना आनन-फानन में दो चांटे जड़ दिए। उसके बाद गुस्से में आकर हाथ के सर्जिकल साधन से उन पर हमला कर मुंह फेरकर कान पर वार कर दिया। इससे पीड़िता के कान फट जाने से गायनेक चिकित्सक के होश उड़ गए।

एक चिकित्सक के ऐसे व्यवहार के बाद उनके आंसू नहीं रुके। उन्हें तुरंत वॉर्ड में ले जाया गया। जहां रास्ते पर लोगों ने उन्हें रोता देखकर पूछा तो डॉक्टर द्वारा किए गये हमले की बात बताई। जिससे लोग आक्रोशित हो गए। 100 नंबर डायल कर पुलिस को सूचित किया गया। तुरंत पहुंची पुलिस ने उसका जवाब लिया। सुबह होते ही पुलिस कोई कार्यवाही करती उससे पहले ही हमलावर महिला चिकित्सक ने माफी मांग ली।