लोकसभा चुनाव : जानिये उम्मीदवार को कितने पैसे खर्च करने और आम आदमी को कितना नगद रखने की है इजाजत


लोकसभा आम चुनाव 2019 की घोषणा होने के साथ ही जिला चुनाव अधिकारी ने आचारसंहिता का अमल शुरू किया।
Photo/Loktej

सूरत जिले में कुल 41.84 लाख मतदाता, 28 मार्च को पर्चा भरा जायेगा, मतदान 23 अप्रैल को

50 हजार से अधिक नकद मिलने पर होगी कार्यवाही, सामान्य व्यक्ति से अधिक नगद मिलने पर आईटी को सूचित किया जायेगा

सूरत। लोकसभा आम चुनाव 2019 की घोषणा होने के साथ ही जिला चुनाव अधिकारी ने आचारसंहिता का अमल शुरू कर दिया है। जिले में कुल 41.84 लाख मतदाता दर्ज हुए हैं। चुनाव प्रक्रिया के लिए उम्मीदवार 28 मार्च को नामांकन भर सकते हैं।

Photo/Loktej

जिला चुनाव अधिकारी तथा जिला कलेक्टर डॉ. धवल पटेल ने लोकसभा चुनाव आचारसंहिता के संदर्भ में पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि मतदाता मुक्त और न्यायी वातावरण में अपने मताधिकार का उपयोग करें। चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही आदर्श आचारसंहिता लागू हो गयी है। आज शहर के विभिन्न स्थलों से 49 होर्डिंग उतारे गए। सूरत शहर जिले में कुल 16 विधानसभाओं के मतदाता शामिल है। सूरत लोकसभा की 7 विधानसभाओं, बारडोली लोकसभा की 5 विधानसभाओं और नवसारी लोकसभा की चार विधानसभाओं का सूरत शहर-जिले में समावेश होता है। इन 16 विधानसभाओं में 31-1-2019 को जारी आखिरी मतदाता सूची के अनुसार 22,65,922 पुरूष तथा 19,18,683 महिलाओं सहित कुल 41,84,716 मतदाता दर्ज हुए हैं। जिसमें सूरत लोकसभा की 7 विधानसभा के 16,37,595 मतदाता 1663 मतदान केन्दों पर अपने मताधिकार का उपयोग कर सकेंगे। 28 मार्च से 4 अप्रैल 2019 तक उम्मीदवार अपना नामांकन पत्र भर सकते हैं। 5 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच होगी और 8 अप्रैल को चुनावी जंग के लिए प्रत्याशियों की अंतिम सूची घोषित होगी। 23 अप्रैल को मतदान होगा और 23 मई 2019 को मतगणना होगी।

जिला मुख्य चुनाव अधिकारी डॉ. धवल पटेल ने कहा कि आचार संहिता के अमल के लिए जिले में विभिन्न टीमें तैयार की गयी हैं। आचारसंहिता का भंग होने पर ओनलाईन शिकायत भी दर्ज की जा सकती है। जिसके लिए कोई भी नागरिक गुगल प्ले स्टोर में सीविजिल एप्लीकेशन डाऊनलोड कर उसमें फोटो और ओडियो अपलोड कर सकते हैं।

चुनावी आचारसंहिता तक राजकीय पार्टी से जुड़े व्यक्ति के पास 50 हजार से अधिक नगद राशि मिलने पर कार्यवाही होगी। अगर कोई सामान्य व्यक्ति किसी भी राजनैतिक पार्टी से जुड़ा नही है और उसके पास से अधिक मात्रा में नगद मिलती है तो उस की जानकारी आयकर विभाग को दी जायेगी।

प्रिन्ट और इलेक्ट्रोनिक्स मीडिया में पेड न्यूज तथा चुनाव आचारसंहिता के संदर्भ में न्यूज और मीडिया मोनीटरींग एन्ड सर्टीफिकेशन समिति की रचना की है। जिला कलेक्टर डॉ, धवल पटेल ने कहा कि किसी भी राजनैतिक पार्टियों को चुनावलक्षी साहित्य का प्रिन्टिंग करने वाले प्रेस को उसकी मंजूरी लेनी होगी।