केदारनाथ की गुफाओं तक न पहुंच सको तो सूरत और नडियाद बेस्ट ऑप्शन है!


केदारनाथ में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब मौन बेठे तो उस गुफा के विषय में लोगों में भारी कुतूहल रहा। ऐसी भी चर्चाएं सुनने को मिलीं कि इस गुफा में एक आम आदमी भी मौन साधना कर सकता है। इसका खर्च प्रतिनिधि 990 रुपये आता है। गढ़वाल विकास निगम के अधिकारी के अनुसार रूद्रा मेडिटेशन गुफा का कन्सेप्ट प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सूचना से ही आगे बढ़ा और डेवलप हुआ। इस गुफा में ठहरने, नाश्ते, लंच, डिनर और दो बार की चाय के लिये 990 रुपये किफायती सौदा है।

लेकिन सूरतियायें को जानकर आश्चर्य होगा कि सूरत में भी एक आश्रम है जहां मौन साधना की जा सकती है और वह भी नगण्य दाम पर। इस जगह को मौन मंदिर के नाम से जाना जाता है। सूरत में जहांगीरपुरा स्थित हरिओम आश्रम में ऐसे ८ मौन मंदिर हैं जिसमें साधक ७ या १४ या २१ दिनों के लिये मौन साधना में बैठ सकते हैं। इसमें किसी भी धर्म के ७ वर्ष से लेकर ८५ वर्ष की आयु की व्यक्ति मौन साधना कर सकती है। प्रतिदिन चार्ज लगता है ५ रुपये। इस आश्रम में दो बार भोजन और दो बार चाय या दूध परोसा जाता है।

ऐसे ही ९ मंदिर नडियाद स्थित हरिओम आश्रम में भी हैं। इनकी साईज १० फुट बाय १२ फुट तो कुछेक की २० फुट बाय २० फुट होती है। सुविधाओं की बात करें तो मौन मंदिर में साधक को एक बेड, एक स्टोर रूम, एक टेबल, एक कुर्सी, एक झूला, टॉयलेट बाथरूम, एक आराम कुर्सी, आध्यात्मिक पुस्तकों की लायब्रेरी, गरम पानी और इमरजेंसी बेल उपलब्ध कराई जाती हैं। मौन मंदिर में आने वाले साधक को मंदिर के नियमों का पालन करना होगा है, जिसमें तंबाकू और धु्म्रपान वर्जित है।

हर रविवार को साधक को आरती के बाद मौन मंदिर में प्रवेश प्रदान किया जाता है। मौन मंदिर में प्रवेश करने वाले हर साधक को एक बार की चाय, भोजन की सुविधा मुहैया कराई जाती है।

यदि केदारनाथ जाने में दिक्कत है या दूर लगता है और वाईफाई, मोबाईल की दुनिया से विलुप्त होकर खुद से मिलने का मन कर रहा है तो इस संस्था के फोन पर कॉल करके जानकारी हासिल कर लें। सूरत का नंबर 02612765564 और नडियाद का नंबर 7878046288है।