अभिनन्दन का अभिनन्दन है


भारत मे आज खुशी का माहौल है। हमारे विंग कमांडर अभिनन्दन आज पाकिस्तान द्वारा भारत को सौंपे जाने वाले है।
Photo/Loktej

भारत मे आज खुशी का माहौल है। हमारे विंग कमांडर अभिनन्दन आज पाकिस्तान द्वारा भारत को सौंपे जाने वाले है। युद्धबंदी के रूप में उनको पाकिस्तान में बंदी बना रखा था। उनके पकड़े जाने के बाद में दुआओं का दौर जारी था। हर कोई यही प्रार्थना कर रहा था कि हमारा बहादुर जवान सकुशल लौट आये। मैं तो यह तक सोच लिया था कि इसके लिए कोई ऑपरेशन भी करना पड़े तो कर लेने में कोई कोताही नही होनी चाहिए, लेकिन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने इन्हें शांति के दूत के रूप में भारत को भेजने की बात कही है।

वैसे उससे पहले ही वियतनाम में उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग से मुलाकात करने गए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार दोपहर को ही भारतीय पायलट अभिनंदन की रिहाई के संकेत दे दिए थे। हनोई में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रम्प ने भारत पाक तनाव के बीच विश्वास जताया कि दोनों देशों के बीच युद्ध के हालात जल्द ही खत्म हो जाएंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि भारत पाक से उनके पास अच्छी खबर आ रही है। इसके कुछ ही घंटों बाद इमरान ने पाकिस्तान की संसद में अभिनंदन को भारत को सौंपने का ऐलान किया।
आपको आज मैं अभिनन्दन के परिवार के बारे में बताना चाहूंगा। कई लोग इन्हेअपनी जाति का बता रहे है। लेकिन वीर की कोई जाति नही होती है। अभिनंदन का परिवार तीन पीढ़ियों से एयरफोर्स में अपनी सेवाएं दे रहा है। अभिनंदन के अलावा उनके पिता एस वर्तमान और दादा सिम्हाकुट्टी भी वायुसेना में रह चुके हैं। इसके अलावा अभिनंदन की पत्नी तन्वी मारवाह वायुसेना में बड़े पद पर रहीं। वे स्क्वाड्रन लीडर पद से रिटायर हुई हैं।

अभिनंदन ने अपने पिता के नक्शे कदम पर चलकर 2004 में वायु सेना ज्वॉइन की थी। उनके पिता एस वर्तमान 1973 में फाइटर पायलट बने थे। वे देश के उन चुनिंदा पायलटों में शुमार हैं, जिनके पास 40 तरह के विमान और 4000 घंटे से ज्यादा उड़ान भरने का अनुभव है। वे कारगिल युद्ध के दौरान मिराज स्क्वाड्रन के चीफ ऑपरेशन ऑफिसर थे। वहीं अभिनंदन के दादा दूसरे विश्व युद्ध के समय एयरफोर्स में थे।

बुधवार को भारतीय सीमा में 3 पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों के घुसने पर भारत ने भी जवाबी कार्यवाही की थी। वायुसेना ने घुसपैठ का जवाब देने के लिए 2 मिग21 और 3 सुखोई30 भेजे थे। मिग के पायलट ने एक पाकिस्तानी एफ16 मार गिराया था। इस दौरान हमारा एक मिग क्रैश हो गया और पायलट विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान में बंदी बना लिए गए।

इत्तफाक की बात है कि अभिनंदन के पिता एस. वर्तमान ने मणिरत्नम की फिल्म ‘कातरू वेलियिदाई’ के निर्माण में भी मदद की थी। इस फिल्म की कहानी भी वायु सेना के एक पायलट की पाकिस्तान में गिरफ्तारी पर आधारित थी। आज जब अभिनन्दन भारत लौट रहे है तो हर कोई उनके अभिनन्दन को आतुर है। सभी की दिली तमन्ना जैसे पूरी हो रही है। बिना किसी विशेष जनहानि के हमने बदला भी ले लिया है और जो हमारा जवान पाकिस्तान के कब्जे में था उसे भी हमे सौंपा जा रहा है तो हमारे देशवासियों की खुशी भी दुगनी हो गई है।

सर्व आश्रयदात्री भारत माता की जय