सूरत में पुलिस कमिश्रर कार्यालय में महिला ने पिया जहर


सम्पत्ति के कब्जे के संदर्भ में पुलिस के एफआईआर दर्ज करने से आहत थी
सूरत। सम्पत्ति के मामले में पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज न किए जाने से दुखी जहर पीकर पुलिस कमिश्रर कार्यालय में पहुंच गयी।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चौक बाजार वरियावी बाजार गोलपीठा मोहल्ला मेें फाल्गुनीबेन भोगीलाल वरियावा रहती हैं। फाल्गुनीबेन ने हिन्दू से मुस्लिम धर्म अंगीकार करते हुए रिक्शा चालक मुस्लिम युवक जाकिर हुसैन मलिक के साथ निकाह किया था। दोनों को शादी किए 8 साल बीत गए हैं। इस क्षेत्र में उनकी एक दुकान है। दुकान को बिल्डर निशार तथा इमरान कुरैशी ने ताला लगा दिया था। फाल्गुनीबेन ने 100 नंबर पर फोन किया तो उन्हें चौक बाजार पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने की सलाह दी गयी। फाल्गुनीबेन चौक बाजार पुलिस थाने में पहुंच गयी किंतु पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने से आनाकानी करने लगी। फाल्गुनीबेन पुलिस कमिश्रर से शिकायत करने गयी थी कमिश्रर कार्यालय में कहा गया कि साहेब नहीं हैं। इससे दु:खी फाल्गुनीबेन ने जहर पीकर आत्महत्या करने की कोशिश की। फाल्गुनीबेन को 108 एंबुलेंस से नवी सिविल होस्पिटल में ले जाया गया। फाल्गुनीबेन की हालत गंभीर बतायी जाती है। इस बारे में बिल्डर निशार और इमरान कुरैशी से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि दुकान को उन्होंने खरीदा है जिसकी पूरी कीमत डेढ साल पहले ही चुका दी गयी है। पुलिस शिकायत दर्ज कर आगे की जांच शुरु कर दी है।