मुख्यमंत्री के हाथोंं पालिका की विभिन्न योजनाओंं का लोकार्पण


2030 की आबादी को ध्यान मेंं रखकर मास ट्रान्सपोर्टेशन सहित प्राथमिक सुविधाओंं का लोकार्पण
गरीबोंं केहित मेंं गैस सब्सिडी न लेने की अपील
सूरत मेंं वाई-फाई सेवा को लॉंच किया
सूरत। मुख्यमंत्री श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को सूरत महानगरपालिका द्वारा 390 करोड़ से अधिक की लागत से साकार हुई विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण करते हुए स्मार्ट शहर के रूप मेंं सूरत को स्मार्टेस्ट की गणना में आगे ले जाने के लिए अधिकारियोंं से श्रेष्ठï शहरों का अभ्यास कर कमियोंं को पूरा करते हुए आगे कूच करने की अपील की।
सोमवार को शाम 4.00 बजे उधना-मगदल्ला डुमस रोड पर वाया जक्शन बीआरटीएस फेज-1 के रूट को हरी झंडी दिखाते हुए स्वयं बस मेंं यात्रा की। वीर नर्मद दक्षिण गुजरात युनिवर्सिटी के केम्पस मेंं विविध प्रकल्पों की तख्ती का अनावरण करते हुए मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने कहा कि गुजरात मेंं विकास कामों को मापा नहींं जा सकता है। महानगरपालिकाओं, जिलों, नगरपालिकाओं, तहसीलोंं, ग्रामीण क्षेत्रोंं में विकास की हवा चल रही है जो भविष्य मेंं भी इसी गति से चलती रहेगी।
मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि शहरीकरण बढ़ रहा है। 40 से 42 प्रतिशत आबादी बाहर से रोजी-रोटी के लिए शहर आती है। आबादी को ध्यान मेंं रखकर रास्ता, पानी, गटर की सुविधाओंं को बढ़ाना आवश्यक है। आगामी 2030 की आबादी को ध्यान मेंं रखकर मास ट्रान्सपोर्टेशन सेवा सहित अन्य सुविधाओंं को ध्यान मेंं रखकर काम करना आवश्यक है।
उन्होंंने कहा कि बीआरटीएस की सेवाओंं से ट्राफिक समस्या दूर होगी। पेट्रोल-डीजल की बचत के साथ-साथ प्रदूषण कम होगा। यात्रियों का खर्च और समय बचेगा। मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा गरीबोंं के हित में साधन सम्पन्न लोगोंं द्वारा गैस सब्सिडी न लेने की अपील किए जाने पर अब तक चार लाख लोग गैस सब्सिडी छोड़ चुके हैं। इस बचत से गरीबोंं के घर में आसानी से चूल्हा जल सकेगा। राज्य सरकार भी वसुधैव कुटुम्बकम की भावना केसाथ इस दिशा मेंं आगे बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने शहरवासियोंं से गैस सब्सिडी छोड़कर गरीबोंं की मदद करने की अपील की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 15 वर्ष से राज्य सरकार गरीबों को गरीबी से मुक्त कराने का प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य, शिक्षा, आर्थिक उपार्जन से राज्य मेंं विकास कामोंं को गति देने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि राज्य मेंं जहां पानी नहीं था उन क्षेत्रों कच्छ, राजकोट, भावनगर के गावोंं मेंं पानी की समस्या को हल किया जा चुका है। राज्य के जलरहित क्षेत्रोंं मेंं नर्मदा का शुद्घ पानी मिलेगा। बनासकांठा जिले के पालनपुर, डीसा, दांतीवाला में किसानों को सिंचाई हेतु पानी दिया जा रहा है। देश की सुरक्षा करने वाले जवानोंं को 120 किमी की पाइप लाइन द्वारा 31 चौकियोंं पर पानी पहुंचाया जा रहा है। इस साल शाला स्वास्थ्य कार्यक्रम मेंं दांत का विशेष उपचार कर विकृत चेहरे वाले बच्च्चों को खोजकर उनका आपरेशन किया गया। उन्होंंने कहा कि विकृत चेहरे वाले बच्चोंं को खोज-खोजकर उनका इलाज किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने भारत को विश्वगुरु बनने की दिशा मेंं पूर्वजोंं की कल्पनाओंं को साकार करने पर जोर दिया। सूरत शहर मेंं 19 स्थलोंं पर हाई स्पीड वाई-फाई सर्विस उपलब्ध कराने पर बधाई दी।
इस अवसर पर मेयर निरंजन झांझमेरा ने कहा कि बीआरटीएस सेवा की सूरत को अलग पहचान मिली है। पालिका आयुक्त मिलिन्द तोरवणे ने उपस्थित मेहमानोंं का स्वागत किया। इस अवसर पर दंडक अजय कुमार चौकसी, गुजरात हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष विवेक पटेल, विधायक पूर्णेश मोदी, रणजीतभाई गिलीटवाला, राजाभाई पटेल, मुकेशभाई पटेल, संगीताबेन पाटिल, पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना, जिला कलेक्टर डॉ. राजेन्द्र कुमार सहित अन्य महानुभाव उपस्थित रहे।