पत्नी और दो संतानों की हत्या के बाद डॉक्टर ने फांसी लगाकर आत्महत्या की


आर्थिक रूप से परेशान डॉक्टर ने उठाया अंतिम कदम
सूरत। आर्थिक रूप से परेशान डॉक्टर ने पत्नी और दो संतानों की हत्या करने के बाद खुद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस घटना से पूरे शहर में सनसनी फैल गयी। सूचना मिलते ही पुलिस स्थल पर पहुंच गयी।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अमरोली छापराभाठा रोड, स्वामीनारायण मंदिर के पास कृष्ण कुंच सोसायटी, बंगला नंबर 22 मेंं रहने एवं मूल राजकोट के लोढिया तहसील के नगर पीपडिया गांव के निवासी 36 वर्षीय नीलेश तारपरा होमियोपैथिक डॉक्टर थे। नीलेश तारपरा एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट के धंधे से भी जुड़े हुए थे। डॉ. नीलेश तारपरा पिछले कुछ दिनोंं से आर्थिक संकट का अनुभव कर रहे थे। आर्थिक रूप से परेशान नीलेश ने परिवार के साथ जीवन खत्म करने का निर्णय लिया। पत्नी नीता, पुत्र झील एवं पुत्री प्राची को कल रात जहर पिलाकर हत्या करने के बाद नीलेश ने खुद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।
घटना की जानकारी मिलते ही आज सुबह पुलिस दल घटनास्थल पर पहुंच गया। पुलिस परिवार की लाश को कब्जे मेंं लेकर आगे की जांच शुरू कर दी है। जांच करने पर पुलिस को स्थल से एक सूसाइड नोट मिला है। सूसाइड नोट में नीलेश ने माता-पिता, भाई एवं सासु-ससुर से माफी मांगी है।

सूसाइड नोट में नीलेश ने माता-पिता से माफी मांगी

सूरत। छापराभाठा रोड़ पर कृष्ण कुंज सोसायटी में परिवार के चार सदस्यों की सामूहिक आत्महत्या की जांच के दौरान पुलिस को एक सूसाइड नोट मिला है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पत्नी नीता, पुत्र झील और पुत्री प्राची की हत्या कर खुद फांसी लगाकर आत्महत्या करने वाले डॉक्टर नीलेश ने मरने से पहले सूसाइड नोट लिखा था। सूसाइड नोट में डॉ. नीलेश ने लिखा है- ”मैं जिंदगी से ऊब गया हंू और आर्थिक परेशानी झेल पाने की स्थिति में नहीं हूं, अत: आत्महत्या कर रहा हूं।ÓÓ
नीलेश ने माता-पिता, भाई कौशिश से सूसाइड नोट में माफी मांगी है। इसके साथ ही साथ सासु-ससुर का उल्लेख करते हुए उनकी पुत्री को अच्छी तरह न रख पाने के लिए दु:ख जाहिर किया है। भाई कौशिक को संबोधित करते हुए लिखा है कि हमारे लेपटोप केथैले में पोलिसी, गोल्ड लोन एवं कार लोन की रसीदें हैं, उसे छुड़ा लेना और अपनी पुरानी गाड़ी फोर्ड भागीदार शैलेष बोरड़ के पास है उसे ले लेना। पत्नी नीता का गहना भी शैलेष के पास होने का उल्लेख किया है। महिन्द्रा फायनांस कार में लोन का 1.80 लाख रूपए भरना बाकी है और उमेश जैन के पास से 70 हजार लेना है। जिसका नंबर हमारे मोबाइल में है। दो पन्ने के सूसाइड नोट में नीलेश, नीता एवं पुत्री प्राची के हस्ताक्षर हैं।