…तो हार्दिक से मिलने केजरीवाल लाजपोर जेल जाएंगे?


सूरत। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के 10 जुलाई को सूरत आने की संभावना है। केजरीवाल के सूरत आने का मुख्य उद्देश्य व्यापारियों से मुलाकात है परंतु पाटीदार आरक्षण आंदोलन के बीच गुजरात विधानसभा चुनाव को मुख्य माना जा रहा है। सूरत मुलाकात के दौरान अरविंद केजरीवाल आरक्षण आंदोलन के कन्वीनर हार्दिक पटेल से भी लाजपोर जेल में मुलाकात कर सकते हैं? खबर काफी चटपटी और राजनैतिक है।
जानकारी के अनुसार 10 जुलाई को अरविंद केजरीवाल सूरत आ रहे हैं। केजरीवाल के सूरत आने से रातनैतिक सरगर्मियां बढऩा स्वाभाविक है। केजरीवाल की मुलाकात से गुजरात की भाजपा सरकार और संगठन में डर का माहौल अभी दिखाई दे रहा है। सोशल मीडिया में अनेक बार हार्दिक और केजरीवाल के बीच सांठ-गांठ होने की बात सामने आ चुकी है। केजरीवाल और हार्दिक की फोटो भी वायरल हो चुकी है। भाजपा और कांग्रेस के नेता भी पाटीदार आरक्षण आंदोलन के कन्वीनर हार्दिक पटेल और केजरीवाल के बीच संबंध की बात कर चुके हैं।
अरविंद केजरीवाल ऐसे समय में सूरत आ रहे हैं जब गुजरात में विधानसभा चुनाव का माहौल गर्म है। केजरीवाल को लेकर भाजपा की नेतागिरी में हडकंप की स्थिति है। इसका कारण केजरीवाल की आक्रामक रणनीति है। अभी तक केजरीवाल अकेले केन्द्र की मोदी सरकार से मोर्चा लिए हुए हैं।
भाजपा के लिए सिरदर्द बने केजरीवाल जब पूरे लाव-लश्कर के साथ सूरत आ रहे हैं तो अपने पुराने साथी से भी लाजपोर जेल में मिल सकते हैं। इसे लेकर शहर में अभी से चर्चा शुरु हो गयी है। कुछ लोगों का कहना है कि अरविंद केजरीवाल हार्दिक से मिलने लाजपोर जेल में नहीं जाएंगे। इसका कारण यह है कि अगर अरविंद केजरीवाल हार्दिक से मिलने लाजपोर जेल में जाते हैं तो भाजपा को बोलने का मौका मिल जाएगा कि गुजरात में पाटीदार आरक्षण आंदोलन आम आदमी पार्टी की देन है। वहीं दूसरी ओर यह भी कहा जा रहा है कि यदि अरविंद केजरीवाल हार्दिक से मिलने जेल जाते हैं तो पाटीदार आरक्षण आंदोलन को एक नई राह मिल जाएगी।
पाटीदार भाजपा से काफी अर्से से नाराज हैं। इसका परिणाम भाजपा पंचायत चुनावों में देख चुकी है। कांग्रेस पहले से ही पाटीदारों से अलग-थलग है। भाजपा से नाराज और कांग्रेस से विमुख पाटीदारों को मनाने केजरीवाल के लिए इससे अच्छा मौका कोई हो ही नहीं सकता है। हालांकि अभी तक अरविंद केजरीवाल के कार्यक्रम की कोई रूपरेखा तय नहीं हुई है। अब देखना यह है कि केजरीवाल के सूरत आगमन पर हार्दिक से मुलाकात का समय निर्धारित होता है या नहीं। आम आदमी पार्टी के नेता इस बात से साफ इंकार कर रहे हैं।