गुजरात के तटीय क्षेत्रों में मरीन पुलिस और कोस्टगार्ड की गश्त तेज


अहमदाबाद । पोरबंदर के निकट समुद्र में बोट विस्फोट की घटना के बाद राज्यभर के तटीय इलाके में मरीन पुलिस और कोस्टगार्ड राउंड द क्लॉक पेट्रोलिंग कर रहे हैं।
हाल ही में पोरबंदर के निकट समुद्र में आतंकियों की बोट विस्फोट होने की घटना को लेकर राज्यभर में हाई एलर्ट की घोषणा की गई है। साथ ही राज्य के तटीय इलाकों में मरीन पुलिस और कोस्टगार्ड द्वारा राउंड द क्लॉक पेट्रोलिंग की जा रही है। कच्छ से लेकर वलसाड तक के तटीय इलाकों में सुरक्षा एजेंसियों की लगातार गश्त जारी है। अमरेली के तटीय क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गईहै। पीपावाव कोस्टगार्ड के जवान समुद्र में दो बोट के जरिए लगातार पेट्रोलिंग कर रहे हैं। वहीं हेलीकॉप्टर की मदद से भी सभी प्रकार की गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जा रही है। एक ओर राज्य में प्रवासी भारतीय दिवस समेत वाइब्रेंट समिट की तैयारियों जोरशोर से चल रही हैं, दूसरी ओर इन कार्यक्रमों में अवरोध पैदा करने की आतंकी गतिविधियां सामने आई हैं। इन सभी घटनाओं को ध्यान में रखते हुए राज्यभर में हाई एलर्ट की घोषणा कर दी गई है। इसके अंतर्गत जमीन से लेकर आसमान और समुद्र तक सुरक्षा एजेंसियों को पूरी तरह सतर्वâ कर दिया गया है।
पोरबंदर के समुद्र की घटना के चलते सुरक्षा के मामले में राज्य सरकार गंभीरता से कदम उठा रही है। गुजरात के १६०० किलोमीटर लंबे तटीय क्षेत्र को सेटेलाइट के जरिए सर्वेलन्स के अलावा नेत्रा की मदद से भी समुद्र में होनेवाली सभी गतिविधियों से बारीकी से नजर रखी जा रही है। सुरक्षा में किसी प्रकार की कमी नहीं रह जाए, इसलिए गुजरात पुलिस ने सभी सुरक्षा बलों के साथ संकलन में रहने के उद्देश्य से वंâट्रोल रूम भी कार्यरत किया है। जिसमें सेना, नौसेना, हवाई सेना के अलावा कोस्टगार्ड, बीएसएफ और सीआरपीएफ इत्यादि गुजरात पुलिस वंâट्रोल रूम के साथ लगातार संपर्वâ में रहेंगे। कोस्टल लाइन के मुखबिरों यानि सी वॉच ग्रुप, तटरक्षक बल की अतिरिक्त टीमें तैनात कर दी गई हैं। समुद्र से मच्छीमारी कर लौटने वाली बोटों की कड़ी जांच की जाएगी और समुद्र में घूमती बोट की जीपीआरएस से निगरानी की जाएगी। जिसके ३१ कोस्टल पुलिस स्टेशनों पर अतिरिक्त टीमें राउंड द क्लॉक पेट्रोलिंग करेंगी।