गांधीनगर में तैयार हो रहा देश का पहला और शक्तिशाली रोबोट


अहमदाबाद । गांधीनगर स्थित विश्व की पहली फोरेन्सिक सायंस यूनिवर्सिटी में देश का पहला और शक्तिशाली बहुउद्देश्यीय रोबोट तैयार किया जा रहा है।
दक्षिण भारत के सुपर स्टार रजनीकांत और ऐश्वर्या राय अभिनित रोबोट देखने वालों को पता ही होगा कि किस प्रकार एक यांत्रिक मानव किस प्रकार अपने दुश्मनों से न सिर्पâ मुकाबला करता है बल्कि आग में पंâसे लोगों को वैâसे सुरक्षित बाहर निकालता है। हालांकि रोबोट फिल्म की यह कहानी एक काल्पनिक थी, लेकिन अब काल्पनिक कथा वास्तव में साकार होने जा रही है। जिसके लिए एकजोन, आईबीएस, आईएसआई और विश्व की पहली फोरेन्सिक सायंस यूनिवर्सिटी अथक प्रयास कर रही हैं। तीन संस्थाओं के मदद से तैयार होनेवाले इस रोबोट के निर्माण में एफएसएल के डिप्टी डायरेक्टर और एफएसएल यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर डॉ. एमएस दहिया का मार्गदर्शन मिल रहा है। गांधीनगर में निर्माणाधीन रोबोट अन्य रोबोट से काफी शक्तिशाली होने के साथ ही अनेक काम करनेवाले सुपर रोबो होगा। फिलहाल इस रोबोट का निर्माण कार्य प्राथमिक चरण में है। कहा जाता है कि देश का पहला और शक्तिशाली एक से भी ज्यादा उद्देश्यों को पूरा करने में सक्षम होगा और कम से कम २०० किलो वजन बड़ी सरलता से उठा लेगा। यह रोबोट फायर ब्रिगेड के लिए भी काफी उपयोगी सिद्ध होगा। भूवंâप के दौरान पूरी इमारत के धराशायी होने के बाद उसके मलबे को हटाने में वर्तमान में जितना समय लगता है, उतना समय शक्तिशाली रोबोट के कार्यरत होने के बाद नहीं लगेगा। बम निष्क्रिय करने में काफी भी रोबोट काफी कारगर सिद्ध होगा। भविष्य में सेना या पुलिस के लिए भी रोबोट काफी उपयोगी होगा। गुजरात में २००१ के भूवंâप के बाद आपदा प्रबंधन की अहमियत को समझते हुए एक पूरा विभाग चलाया जाता है, उसमें भी गांधीनगर में बन रहा रोबोट सुपर रोबोट और सुपर मैन की काल्पनिक कथा को टक्कर मारे ऐसी भूमिका निभाएगा। इतना ही नहीं रजनीकांत के रोबोट की भांति अपने सीने पर गोलियां भी खाएगा गुजरात का रोबोट।