केजरीवाल के बयान पर हार्दिक ने साधी चुप्पी


सूरत। लाजपोर जेल में बंद पाटीदार आरक्षण आंदोलन के कन्वीनर हार्दिक पटेल को सोमवार को कड़ी सुरक्षा के साथ कोर्ट में लाया गया। कोर्ट में केजरीवाल के बयान पर पूछे गए सवाल पर हार्दिक ने कोई जवाब नहीं दिया।
पत्र और विवादित टिप्पणी करने वाले हार्दिक पटेल ने इस बार कोर्ट परिसर में पत्रकारों के सवालों का कोई जवाब नहीं दिया।
ज्ञातव्य है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हार्दिक के पक्ष में एक बयान दिया था। अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा था कि दाउद इब्राहिम से फोन पर बातचीत के आरोप में फडणवीस मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले एकनाथ खडसे देशद्रोहीं है न कि पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल। केजरीवाल ने ट्वीट किया था कि गुजरात सरकार को हार्दिक के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा वापस ले लेना चाहिए, क्योंकि वह दोषी नहीं है।
सोमवार को सूरत की कोर्ट में लाए गए हार्दिक पटेल ने इस पर कोई जवाब नहीं दिया। हार्दिक के मौन से पाटीदार सहित अन्य लोगों में तर्कक-वितर्क शुरु हो गया है। हार्दिक पटेल की 14 दिनों की ज्युडिशियल कस्टडी पूरी होने के बाद आज कोर्ट में पेश किया गया था। सरकारी वकील नयन सुखड़वाला के उपस्थित न होने के कारण कोर्ट ने आगामी 20 जून को हार्दिक को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है।